“न्याय” का ललित निबंध

अधिकतर अदालती आदेश उतने ही धीर गंभीर उदासीन अलिप्त होते हैं जितने “बेयरफुट इन एथेंस” नाटक में सुकरात की भूमिका करते हुए सूर्य मोहन कुलश्रेष्ठ के हावभाव| दिलचस्प बात यह है की अतिगंभीर मुद्दों पर हमारे न्यायधीश साहित्य, संस्कृति, श्रुति और शायरी की बातें करते हैं, कदाचित इससे पाठक को उबासी न आये | अधिकतर आदेश दोनों पक्षों द्वारा रखे न्यायालय के समक्ष रखे गए तथ्यों और दलीलों से शुरू होते हुए कानून की बारीकियों में उलझते – सुलझते न्यायिक आभा की संरचना करते हुए न्याय तक जाते हैं| ज़मानत संबंधी आदेश आरोपों की गंभीरता और आरोपी के जाँच में सहयोग आदि की बात करते हैं|

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष पर लगे देशद्रोह के आरोपों और गिरफ़्तारी के बाद दिल्ली उच्चन्यायालय ने ज़मानत की अर्जी पर अपना फैसला २ मार्च २०१६ को सुनाया|

मैंने अदालती आदेशों को अंत से प्रारंभ और प्रारंभ से अंत तक पढ़ना सीखा है| इस आदेश में कहा गया है आदेश में दिए गए दृष्टान्त (Obesrvations) केवल ज़मानत पर सुनवाईं के लिए हैं, उन्हें तथ्यता (Merit) के रूप में नहीं माना जा सकता| क्योकिं तथ्यों की तथ्यता की पुष्टि होनी है, उनपर विचार करना हमारे लिए भी उचित नहीं होगा|

इस आदेश के प्रारंभ में दिया गया राष्ट्रप्रेम का गीत कई प्रश्न करता है? क्या उसका जमानत की अर्जी के सम्बन्ध में कोई विचारात्मक महत्त्व है? परन्तु, यह किसी विमर्श के प्रसंग में नहीं आया है और पूर्णतः स्वतंत्र अस्तित्व रखता है| भावनात्मक रूप से कठिन निर्णय की पुष्टि करता है| यह भी ध्यान रखना चाहिए कि यह गैर जमानती और भावनात्मक रूप से सशक्त आरोप का मामला है| न्यायाधीश ने स्वीकार है कि वह खुद को चौराहे पर खड़ा महसूस कर रहीं हैं|

इस आदेश में की कई बातों की न्यायविदों द्वारा आलोचना हो रही है| कुछ लोगों को ऐसा प्रतीत हो रहा है कि न्यायाधीश भावनात्मक और न्यायात्मक दबाब के बीच न्याय के साथ जाते जाते पूरी तरह संयत नहीं हो पायीं है| भावनात्मक प्रवाह निर्णय में झलकता है जब न्यायाधीश अपराध के होने या न होने से इतर भारतीय सेनिकों और उनके परिवार की भावना की बात करतीं है|

ज़मानत देते समय मौलिक अधिकारों पर बात करते हुए मौलिक नागरिक कर्तव्यों की बात, अतिरिक्त उपदेश की तरह आती है| जिसे किसी आरोपी को नहीं बल्कि अपराधी को दिया जाना चाहिए था| किसी आरोपी के साथ अपराध सिद्ध होने तक अपराधी जैसा बर्ताव नहीं किया जाना चाहिए| विश्वविद्यालय से सही मार्ग दिखाने का आग्रह न्यायायिक मामले से बहुत दूर निकल जाता है|

निर्णय अचानक बहुत कटु हो जाता है जब माननीय न्यायाधीश गंगरीन के लिए अंगविच्छेद की बात करतीं हैं| निर्णय अचानक अपराध की पुष्ट परिकल्पना की ओर मुड़ जाता है| भावनात्मक और न्यायात्मक विरोधाभास के चलते सुधार के पुराने पश्चाताप वाले तरीके की बात होती है|

अपराध की मजबूत परिकल्पना के साथ ज़मानत की मंजूरी बहुत सारे प्रश्न और उत्तर खड़े करती है|

अंतरिम ज़मानत दी जाती है|

यह आदेश न्यायालय के मानवीय भावना से परे न होने की पुष्टि करता है| यह निर्णय न्यायधीश के भावनात्मक और न्यायात्मक आन्तरिक विमर्श, निर्णयात्मक विरोधाभास, अतिवादी न्याय और उग्रराष्ट्रवाद के सामायिक दबाब के रूप में देखा जा सकता है| इस आदेश की अंतरात्मा में न्याय के आन्तरिक विमर्श का ललित निबंध है|

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s