विश्व-बंदी १३ अप्रैल


उपशीर्षक – अनिश्चितता

सभी चर्चाओं में एक बात स्पष्ट है| मध्य वर्ग लॉक डाउन के लिए मन-बेमन तैयार है| उच्च वर्ग को शायद कोई फर्क नहीं पड़ता परन्तु उनके लिए लम्बा लॉक डाउन अधिक कठिनाई भरा होगा| भारत के बाहर भी हालात अच्छे नहीं इसलिए उनकी चिंता है है कि किसी प्रकार काम धंधे को चलाया जाए| लम्बा लॉक डाउन उनकी संपत्ति को बैठे बिठाए नष्ट कर सकता है| वैसे भी अर्थ-व्यवस्था राम-भरोसे है|

निम्नवर्ग को पूछता कौन है, उनके पास विकल्प नहीं है| साथ ही, लंगरों, सरकारी भोजनालयों, रैन बसेरों का उनको सहारा है| इन में से बहुत से लोगों के लिए मुफ्तखोरी बढ़िया चीज है तो बहुत से अन्य आत्मसम्मान बचा कर रखने की लड़ाई हारने के कगार पर है| एक बार आत्म सम्मान नष्ट हो जाता है तो उन्हें नकारा होने से कोई नहीं रोक सकता| शहरी निम्न वर्ग में यह खतरा अधिक है क्योंकि उनका स्वभाविक सामाजिक ताना-बाना परवाहहीन होता है| आत्म-सम्मान सामाजिक सम्मान की कुंजी है| अगर सामाजिक सम्मान की इच्छा न हो तो आत्म सम्मान का कोई मतलब नहीं होता|

मध्यवर्ग की चिंताओं का समुद्रमंथन हो रहा है| यही कारण है कि यह वर्ग रामायण, महाभारत, गीता, कुरान, आध्यात्म, आदि की चर्चा में व्यस्त रहकर इस समय को काट लेना चाहता है परन्तु उनके पास कोई कारगर राह नहीं| यह वर्ग अपने आप को राष्ट्र का कर्णधार समझता है| इनके पास अपनी हर हार हानि का दोष देने के लिए कोई न कोई होता है – मुस्लिम, आरक्षण, अमीर, गरीब, पूंजीवाद, साम्यवाद, या फिर माता-पिता भी| यह वर्ग महानगरों में सबसे बुरे हालात का सामना करने जा रहा है| करोना की बीमारी भी मुख्यतः इसी वर्ग को प्रभावित कर रही है|

white ceramic sculpture with black face mask
Photo by cottonbro on Pexels.com

कल प्रधानमंत्री मोदी का राष्ट्र के नाम संबोधन है| अटकलों का बाजार गर्म है| लॉक डाउन बढ़ता है तो जान है, नहीं बढ़ता तो जहाँ है – वर्ना लटकती तलवार है| जनमानस लम्बे संघर्ष के लिए तैयार है| परन्तु हर किसी को विश्वास है कि किसी को हो मगर बीमारी उसे नहीं होगी| आज देर शाम बाजार की तरफ जाना पड़ा| आधे लोग नक़ाब नहीं पहने थे| मेरे सामने पुलिस वाले ने दो लोगों के डंडे लगाये और तीन लोग गलती से भूल आए की मिन्नत कर रहे थे| मिन्नत करने वालों में एक का कहना था कि उसके पास घर पर हजार रुपए वाला मास्क है| पुलिस वाले ने कहा तो उसे लॉकर में रखो और डंडा कहने के बाद पहनने के लिए सस्ता वाला मास्क खरीद लो|

Enter your email address to follow this blog and receive notifications of new posts by email.

टिप्पणी करे

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.