प्रेम में गाय

भारतीय सामाजिक संचार माध्यमों गाय एक चर्चित मुद्दा है| लोग जान देने और लेने की धमकी दे रहे है| कुछेक हत्याएं और दंगे हो चुकीं हैं| मगर ज्यादातर भारतियों ने बहुत मुश्किल से ही किसी गाय को सींग मारते हुए नहीं देखा होगा| उन्होंने भी नहीं, जिन्होंने खुद गाय पाली है| गाय लात भी यदा कदा ही मारती है|

भारतीय मानस में ही नहीं वास्तविकता में भी गाय एक जैसा जानवर हैं जो सीधी है और जिस खूंटे से बाँधी जाये वहीँ बंधी  रहती है| अगर दुधारू गाय को दिन भर के लिए घर से निकाल दिया जाये तो भी वो शाम को खुद दूध काढने के समय पर गौशाला पहुँच जाती है|

कम दूध देने वाली गाय को दूध के लिए प्रतिबंधित दवा के इंजेक्शन लगाये जाते है, पिटाई की जाती है, पैर बांध दिए जाते है; मगर विरोध का कोई शब्द नहीं आता|

गाय मानव से प्रेम करती है| मगर उसकी स्थिति उस माँ की तरह है, जिसके पैर छू कर सब स्वर्ग जाना चाहते हैं मगर सेवा कुछेक है करते हैं; और बुढ़ापे में वो कुछेक भी साथ छोड़ने लगते हैं| मगर गाय का मानव प्रेम कम नहीं होता| आप शायद ही कभी देखेंगे कि कभी चिढ़चिढ़ी होकर गाय ने किसी को मारा हो| क्षमा उसके जीवन का मर्म है|

दुर्भाग्य से प्रेममय होकर भी भगवान और गाय, घृणा और हिंसा का सबसे बड़ा कारण बन गए हैं| आयें प्रेम फैलाएं|

जिस प्रकार पीटे जाने पर भी गाय प्रेम कम नहीं करती है, हम सब भी अनुशरण करें|

Villager and calf share milk from cow in Rajasthan, India

For Indian social media, cow is a cause of big debate. Peoples threat each other to kill and be killed. Few murdered and riots already reported in media. This is happening when most Indians have rarely seen a cow attacking anyone.

Not only in Indian Psyche but in reality, Indian cow is a very generous  and never protest on restrictions.

Cow usually faces assault for milk. Many cow given injection which is prohibited medically and legally.

Cow loves humans. It is like a mother, who is respected in expectation of heaven but very few pay any service.

Unfortunately, loving god and cow are becoming biggest reason for hate and violence. Spread love.

A cow still loves humans even after they assault her, we have to follow the love.

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s