व्हाट्सऐप प्रेमकथा

1

नौ बज चुके थे| अभी तक ब्लॉक हूँ| शायद साथ में अभी भी कोई होगा| जिन्दगी की बैटरी डाउन है|

2

कई दिन से ब्लॉक कर रखा है| शादी के बाद कितना बदल जाते हैं? उनकी जिन्दगी रीस्टार्ट हो गयी| मैं आउट डेटेड वर्ज़न हूँ|

3

सुबह से कितनी बार ब्लॉक और अनब्लॉक किया| पता नहीं| जिन्दगी आत्मा से नहीं नेटवर्क से चलती है|

4

राधा कृष्ण वाला प्याला लगा लिया| लगता है उसे फिर से प्यार हो रहा है|

5

शराब का टूटा ग्लास, उसे दिल की गहराई में चुभ जाये शायद| नहीं लगा सकता| चलकर कॉफ़ी पीते है|

6

उसका ऑनलाइन होना ही तो बहार है| पता नहीं कब आएगी| उफ़, माँ का कॉल भी अभी आना था|

7

ब्लॉक होने से या कर देने से यादें ब्लॉक क्यूँ नहीं होतीं| शायद विज्ञान को याद नहीं आती|

8

बड़ा मोबाइल लेना है| तुम्हारा डिस्प्ले पिक्चर बड़ा दिखेगा| और रोने का मन करता है न|

9

और कितना पढ़ना है| सारी बात तुम्हारे लिए लिखीं है| कम लिखा है, तुम समझ लेना|

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s