कॉर्पोरेट जगत में यौन शोषण

 

अब जबकि तहलका मामला पूरी तरह गर्म है तो भूली बिसरी विशाखा दिशानिर्देश पुनः चर्चा में है| यद्यपि हरेक कॉर्पोरेट अधिवक्ता और कंपनी सचिव को यह दिशानिर्देश पता होने चाहिए, मगर मुझे इस गलती का अहसास है कि मैंने इन दिशा निर्देशों को आज तक मात्र एक बार सरसरी तौर पर पढ़ा है|

जब मैंने अपना कार्य प्रारंभ किया तो मुझे विशाखा दिशानिर्देश के बारे में प्रश्न का सामना करना पड़ा| कंपनी के मानव संसाधन विभाग की शीर्षस्थ अधिकारी ने मुझे एक पूरे दिन के लिए मीटिंग के लिए बुलाया| अपने आप को सँभालते हुए मैंने विशाखा दिशानिर्देश के बारे में बात शुरू की थी| मगर मुझे सीधे ही शब्दों में कहा गया कि बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर के सामने एक ऐसा प्रस्ताव पेश करना है जिसे बिना किसी पारिवारिक समस्या के लागू किया जा सके| मेरा सामना एक जमीनी हकीकत से था| प्रबंध निदेशक का परिवार ही सभी उच्च पदों पर काबिज था और उनकी जाति विशेष के लोग अधिकतर पदों पर थे|

प्रबंध निदेशक का संदेश स्पष्ट था कि वो मानते हैं कि यौन उत्पीडन की किसी भी घटना का होना और छिपाया जाना, दोनों ही कंपनी के लिए घातक हैं| वह कंपनी और परिवार का मुखिया होने के नाते एक ऐसा प्रस्ताव चाहते थे जिससे परिवार और कंपनी दोनों में उन्हें किसी समस्या का सामना न करना पड़े|

प्रबंध निदेशक महोदय का विचार यह था की अधिकतर कंपनी में कुछेक उच्च अधिकारी, महिला और पुरुष, किसी न किसी रूप में यौन शोषण अथवा उसको छिपाने करने की मानसिकता रखते हैं|

Five ways to fight sexual harassment

यौन शोषण रोकने के पांच उपाय (Photo credit: InSapphoWeTrust)

उस समय की गयी मसक्कत का मेरा निष्कर्ष मैं यहाँ बाँटना चाहता हूँ|

भारत में कंपनी प्रबंधन के लिए बड़ी समस्या हैं:

(अ) परिवार और मित्रों का उच्च पदों पर आसीन रहकर कंपनी को हर मामले में अपनी बापौती समझते हैं|

(आ)                       अधिकतर यौन शोषण करने वाले लोग महत्वपूर्ण पदों पर होते है और अतिकुशलता से कार्य करने के लिए जाने जाते हैं|

(इ)   अधिकतर यौन शोषकों की आप ठीक उन्ही समूहों में निशानदेही कर सकते हैं, जिन से आप आर्थिक धोखाधड़ी का खतरा चिन्हित कर सकते हैं|

(ई)   प्रत्येक यौन शोषक अपने आस पास के कुछेक लोगों के सामने अपनी छवि या तो अच्छी बना कर रखता है अथवा पूरी तरह फंसा कर रखता है|

(उ)   हर मामले में यौन शोषक पुरुष ही यौन शोषक नहीं होते, परन्तु पुरुष यौन शोषण को सहने की अथवा उसमें सहयोग शुरू करने की प्रवृत्ति महिलाओं के मुकाबले अधिक रखते हैं| पुरुषों का यह सहयोग, सह – शोषक और शिकार दोनों के रूप में होता है|

(ऊ)  महिलाएं शिकार के रूप में शोषण को प्रायः स्वीकार नहीं करतीं परन्तु समाज, सहकर्मियों और घरेलू समस्याओं के कारण समझौता करने पर विवश होती हैं| शायद, उन्ही कारणों से महिलाओं में सह –  शोषक के रूप में काम करने की प्रवृत्ति भी पाई जाती है|

अधिकतर यौन शोषकों की आप ठीक उन्ही समूहों में निशानदेही कर सकते हैं, जिन से आप आर्थिक धोखाधड़ी का खतरा चिन्हित कर सकते हैं|

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s