इश्क की दौड़

 

हिंदुस्तान में जब भी बात होती है तो इश्क की होती है| जब तक खुद को इश्क न हो तो बस बातें बनायीं जा सकतीं हैं|

सूत्र लिखे गए थे:

नशा –> जुनून –>इश्क

प्यार –> मुहब्बत –> इश्क

दो और सूत्र जोड़ रहा हूँ:

ध्यान –> धारणा –> समाधि

वो –> तुम –> हम –> मैं

.

कहते है, नशा होता है, कुछ दुनियावी चीजों में| मगर नहीं, वो नशा, तब तक नहीं होगा, जब तक आप नशा न करें| ये आप की शिद्दत है, किस शिद्दत से नशा करें| किसी को प्याली – दो प्याली से हो जाता है, और कोई दस प्याली में भी नशे से महरूम रहता है| (अगर अंग्रेजीदां हो तो प्याली को “पैग” पढ़ें|) जो भी है, नशा आपको करना पड़ता है, तब होता है| जैसा चाहें नशा करें, शौक की बात है| भांग, अफीम, बीयर, वोडका, व्हिस्की, रम, वाइन, का| आप कुछ भी स्वाद चखते हैं| कई बार कॉकटेल भी हो जाता है| मगर हम इस नशे की बात आगे नहीं बढ़ा रहे हैं| क्योंकि इस नशे का जुनून, लत कहलाता है और बर्बाद कर देता है|

हमारी बात तो दुसरे नशे की है| दौलत, शौहरत, नाम, धाम का नशा| काम और सफलता का नशा| ये जुनून में बदलता है| जब जुनून सर चढ़ कर बोलता है, तो कुछ और नहीं दीखता| आपकी आँख होती है और चिड़िया की आँख होती है| जैसे महाभारत में अर्जुन की आँख देखती है, चिड़िया की आँख| तीर तो निशाने पर ही जाएगा| अगर एक नशेडी का तीर चूकता है तो उसे अगली बार चिड़िया दिखती है| मगर जब जुनून में तीर चूकता है तो अगली बार आँख की पुतली दिखाई देते है|

यही हाल है प्यार का| लड़कों को हर राह चलती लड़की से हो जाता है और लड़की को हर दुसरे फिल्मस्टार या क्रिकेटर से| कुछ को पढाई से होता है, कुछ को फिल्मों से, तो कुछ को काम से| प्यार में भटकन है; सच्चाई नहीं|

जब आप सही से प्यार कर बैठते हैं तो कहते है; मुहब्बत है| अब कौन दीखता है, मुहब्बत के सिवा| सच्ची मुहब्बत दिन भर का नशा है, प्यार है| आपकी मुहब्बत खुदा हो जाती है, कण कण में राम बसते है| बुत – परस्ती की जरूरत नहीं पड़ती है| सच्ची भक्ति है, जहाँ खड़े है, मंदिर समझते हैं तेरा| हर पल वह ख्याल में रहता है|

जुनून और मुहब्बत में एक बात रहती है; आप बाकि दुनिया से भी जुड़े रहते हो| मगर आपका लक्ष्य सामने रहता है, आपका जुनून, आपकी मुहब्बत|

मगर इश्क उसका अगला पड़ाव है| जब इश्क होता है; तो नफा नुक्सान, समझ, बूझ, गणित, हिसाब किताब, पैसा नहीं देखा जाता| सत्यजीत रे और दादासाहब फाल्के ने बिना पैसे के फ़िल्में बना लीं, ये इश्क है| आप अगर काम से इश्क करते है तो आप काम करते हैं, दाम नहीं देखते| आपको लैला से इश्क है तो आप पत्थर में लैला देखते है, पत्थर नहीं देखते| अगर भगवान से इश्क है, तो कण कण में ही नहीं खुद में भी, भगवान देखते हैं| इश्क में आप मंजिल देखते है, राह के कांटे नहीं देखते|

ये इश्क होना मुश्किल बात है|

..

दो सूत्र और जोड़े है:

ध्यान हम सब जानते हैं| ध्यान से पढो| ईश्वर का ध्यान लगाओ| ध्यान लगाने से मन मजबूत होता है| योग शास्त्र के अनुसार जब ध्यान पक्का हो जाता है तो उसे धारणा कहते है| जब हम १००८ बार जाप करते है तो ध्यान लगते हैं| जब मन में पाठ पक्का हो जाता है तो धारणा बन जाती है| पढ़ते में हम ध्यान से पढ़ते है तो याद होता है| मन जाता है की अगर आप किसी बात को २१ दिन तक २१ बार पढ़े, समझे या मामन करें; तो वो धारण हो जाती है| मनोविज्ञान कहता है; काम चलाऊ याददाश्त से उठकर पक्की याददाश्त में चली जाती है| जो धारण हो जाता है उसे ही हम काम में ला पाते हैं| ये ईश्वर भी हो सकता है और ज्ञान भी| इसके बाद समाधि आती है| जब धारणा में भी ध्यान सब कुछ पक्का हो जाये, तो समाधि का प्रारंभ होता है| यूँ तो समाधि के दो स्तर हैं मगर वह गूढ़ बात है, उसपर कभी अलग से बात करेंगे| मगर, कहते है जब इंसान के मन में धारणा हो कि वो शैतान से भी लड़ सकता है, तभी लड़ सकता है; वरना पैर उखड जायंगे| जैसे अकेला अभिमन्यु धारणा के बल पर ही लड़ा और हनुमान जी या कृष्ण जी धारणा के बल पर पर्वत उठा सके|

अगली बात पर आते हैं|

जब हम किसी को नहीं जानते तो हम उसे तृतीय वचन में इंगित करते है| वो कौन है? अगर कहीं ईश्वर होता तो वो हमारी सुनता|

जब हम उसे जान लेते है तो हम उससे बात कर पाते हैं| तुम कैसे हो? कहाँ जा रहे हो तुम, मैं साथ चाल रहा हूँ? कैसा है तू कृष्ण कन्हैया, कुछ तो करामत कर दे अब|

फिर और परिचय बढ़ता है| हम भी न कैसे गधे हैं? कहाँ जा रहे हैं हम? हम कौरवों को हरा देंगे| (यहाँ कृष्ण हम में समा गए है, गायब लगते हैं|)

फिर एकाकार हो जाते है| राँझा राँझा करते करते अप्पे राँझा हो गयी| और जैसा कि गीता में कृष्ण कहते है, मैं ईश्वर हूँ| अहम् ब्रह्मास्मि|

 

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s