विवाह मोक्ष


इधर मुझे सुप्रसिद्ध हिंदी लेखक जयशंकर प्रसाद का लिखा नाटक ध्रुवस्वामिनी पढ़ने को मिला| गुप्तकाल की पृष्ठभूमि वाले इस नाटक में ध्रुवस्वामिनी के विवाह मोक्ष और उसके उपरांत चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य से विवाह का वर्णन है|

वो उधार वापिसी…


आज कल के हिसाब से तंगहाली का जमाना था, जिसे नए नए बुढ्डे सस्ते का जमाना भी कह सकते हैं| लोगों की इज्ज़त पैसे से नहीं उसके दुआ – सलाम करने के क़ायदे से होती थी| ये तो वही बातें हैं, जिन्हें हम हर गुजरे ज़माने के लिए लिखते कहते हैं| हर बुधवार और शुक्रवारपढ़ना जारी रखें “वो उधार वापिसी…”

प्रधानमंत्री!!


  भारतीय हिंदी समाचार चेनल पर प्रसारित किया जा रहीं नायब वृत्तचित्र श्रंखला| विश्व के श्रेष्ठ निर्देशक श्री शेखर कपूर इसके प्रस्तुतकर्ता हैं| २३ किस्तों में प्रसारित होने वाली इस श्रृंखला की छह क़िस्त हम देख चुके हैं| किस तरह आजादी के समय देश में ५६५ स्वशासित रजवाड़ों को भारत या पकिस्तान में मिला करपढ़ना जारी रखें “प्रधानमंत्री!!”

भारत की अबला नारी


  भारत का समाज और क़ानून मात्र दो प्रकार की अबला नारियों की परिकल्पना करता है: १.      नवविवाहिता स्त्री, विवाह के पहले ३-४ वर्ष से लेकर सात वर्ष तक (नवविवाहित अबला); और २.      भारतीय परिधान पहनने और अपने पिता या भाई की ऊँगली पकड़ कर चलने वाली २४ वर्ष की आयु अविवाहिता स्त्री (अविवाहित अबला)|पढ़ना जारी रखें “भारत की अबला नारी”

धर्म की दूकान


हम भारतीय, विशेषकर हमारा हिन्दू समुदाय अंध भक्ति को जिस तरह से नतमस्तक होकर पसंद करता है; मैं हमेशा से उसका कायल रहा हूँ| हर मंदिर, मठ, आश्रम, गुरूद्वारे, मकबरे, दरगाह, साधू, सन्यासी, पीर फ़क़ीर हर जगह हमारी भीड़ पहुँच जाती है| घर में चाहे दो जून रोटी न जुटती हो, बेटी के लिये दोपढ़ना जारी रखें “धर्म की दूकान”

ऐश्वर्य के घर शिशु जन्म


यह दुनिया बहुत बड़ी है| इसमें एक छोटी सी दुनिया है, जिसमें हम रहते हैं| यह दुनिया एक दम अनोखी है: यहाँ बड़े बड़े दर्द और छोटी छोटी खुशियां है, अपनी लहरें, अपना पानी है; वक्त की अपनी रवानी है| हमारी यह छोटी सी दुनिया बड़ी सी दुनिया में जगह जगह फैली हुई है: अलीगढ़,पढ़ना जारी रखें “ऐश्वर्य के घर शिशु जन्म”

लड़की का घर


अभी हाल में पत्नी जी के साथ उनकी माँ के घर जाने का मौका मिला| उनका वहाँ पर बेसब्री से इन्तजार हो रहा था| वैसे भी भारतीय मानसिकता में विवाहित पुत्री बेहद लाडली, प्यारी, स्वागतयोग्य और इष्ट देवी सदृश्य होती है| जैसे ही हमने घर में प्रवेश किया, पड़ोस से कोई चाची-ताई-बुआ-मामी-मौसी आ पहुँची; पूछनेपढ़ना जारी रखें “लड़की का घर”

दंगानामा


भैया रे, अब तो सुना है कि विलायत के लन्दन शहर में भी दंगा हो गया| चलो जी अब हमारा अलीगढ और लन्दन भाई भाई हो गए इस नाते| चलो पहले अपने दर्द दिखा कर मन हल्का कर ले फिर लन्दन देखेंगे| बचपन में अगर कोई पूछता कि तुम्हारे अलीगढ में दंगा क्यों होता है,पढ़ना जारी रखें “दंगानामा”