विश्व-बंदी १७ मई


माँग होए मोती बिके, बिन माँग न चून|
रहीम अगर आज दोहा लिखते तो वर्तमान सरकार को इसी प्रकार कुछ अर्थ नीति समझाते|