विश्व-बंदी २३ अप्रैल


उपशीर्षक – नीरसता की काट

करोना काल में आप भले ही कितना काम या आराम करें एक नीरसता आपको घेर ही जाती है| इस सदी में अधिकतर लोग नीरस समय सारिणियों के साथ जीवनचर्या व्यतीत करते हैं| छात्र जीवन में आशावान भविष्य की आशा इस प्रकार की नीरसता को तोड़ती है| परन्तु मध्यवय में यह नीरसता टूटना इतना सरल नहीं होता| गर्मियों की उदास कर देने वाली छुट्टियाँ याद आतीं हैं जब लू-लपट के कारण दोपहर में घर से निकलना मना नहीं तो कठिन जरूर होता था| लोग ऑनलाइन मीटिंग्स, फिल्मों, टेलिविज़न, ऑडियो बुक्स और वेब सीरीजों में समय खपा रहे हैं| अगर शाम को आप अपने आप को यह नहीं कह पाते कि आज का आपका जीवनसार क्या रहा तो आपके जागृत मष्तिष्क को नींद नहीं आती|

कान में हेड फ़ोन लगाकर कठिन शास्त्रीय संगीत को गुना जा सकता है| अगर आप ध्यान से सुनें तो आप वाकई इस समझ सकते हैं और इसके गुण को आत्मसात कर सकते हैं| मुझे शास्त्रीय संगीत सुनना पसंद हैं भले ही मैं इसकी गंभीर शास्त्रीय में गहरी गोताखोरी नहीं करता| जिन रागों या बंदिशों को पहले नहीं सुना या पुनः पुनः सुनने की इच्छा थी, उन्हें सुन रहा हूँ|

हाल में मैंने ऑडियो बुक का भी प्रयोग करना शुरू किया है| इस का लाभ मैं पहले भी देख चुका हूँ| हम सब जानते कि ज्ञान प्रारंभ में श्रुति परंपरा के चलते ही आगे पीढ़ी दर पीढ़ी बढ़ा है| बहुत की प्राचीन पुस्तकें जैसे वेद श्रुति के रूप में आगे बढ़े| बाद में भी गुरुओं, शिक्षक, मौलवी आदि मौखिक परंपरा से ही पढ़ाते आए हैं| धर्मग्रंथों के सामूहिक पाठ की लम्बी परंपरा रही है| हम सब अभी भी अपनी अपनी कक्षाओं में श्रुति का ही प्रयोग करते हैं| लिपि के घटते बढ़ते महत्त्व की चर्चाएँ होती रहेंगी, परन्तु ज्ञान का सुस्पष्ट मार्ग कर्णमार्ग ही है| लिपि उसके दीर्घकालिक संरक्षण के लिए शायद उचित हो| मैं तो पीडीऍफ़ पुस्तकों को पढ़ते समय भी उसके रीड आउट लाउड फ़ीचर का प्रयोग करता हूँ| इससे ध्यान भटकने की संभावना कम रहती है|

Enter your email address to follow this blog and receive notifications of new posts by email.

टिप्पणी करे

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.