मोटापा प्रबंधन में शहद

मोटापा प्रबंधन एक ऐसा विज्ञान है जिसमें हर खाता – पीता व्यक्ति कुशलता हासिल करना चाहता है| एक विश्व में एक बड़ा वर्ग मोटापे की समस्या से जूझ रहा है| जिस विश्व में तीन चौथाई आबादी भूख से जूझ रही है, उसमें भले ही यह सृष्टि का एक व्यंग है मगर जीवन की सच्चाई भी है|

मोटापा कम करने की दवाओं, कपड़ो, जादूओं, मशीनों, इलाजों और तंत्र – मन्त्र से आज बाज़ार भरे पड़े हैं| इंसान को भूख न लगे इस बात की दवाएं भी आज बाज़ार में आसानी से उपलब्ध हैं| भोजन के संतुलन की बात हम सभी करते हैं तब भी भोजन का स्वाद और अच्छी पाचन क्षमता शरीर में वसा का भंडार बना ही देती है| इस बात की आवश्यकता लगातार बहती जाती है कि हम जितना भी खाएं, उसमें से जो भी अतिरिक्त हमारे शरीर में बच जाए उसे हम परिश्रम और व्यायाम से नष्ट कर दें|

शरीर के लिए व्यायाम की आवश्यकता उसको सुचारू रखने के लिए बहुत ही आवश्यक है परन्तु कैलोरी जलाने के लिए व्यायाम का मैं बहुत समर्थन नहीं करता|

कैलोरी जलाना उस स्तिथि में सही तो माना जा सकता है जब शरीर में पहले से ही वसा एकत्र हो गयी हो परन्तु यह स्तिथि न आये इसका ध्यान देना बहुत जरूरी है|

प्रथम आवश्यकता इस बात की है कि हम संतुलित खाए और उतना ही खाएं जितना शरीर के लिए जरूरी हो| यदि हमने कोई खाद्य स्वाद के कारण ग्रहण किया है तो दुसरे खाद्य को कम खाकर उसकी अपने कैलोरी ग्राह्य को कम कर सकते हैं| इस से हम भोजन और खाद्य पदार्थों की बर्बादी करने से बच सकते हैं| बचा हुआ भोजन किसी किसी और के काम आ सकता है|

साथ ही हम अपने लिए ऐसा भोजन चुन सकते हैं जिसमे समुचित संतुलन हो और किसी प्रकार का हानिकारक प्रभाव हमारे शरीर पर न हो| कम वसायुक्त भोजन, कम नमक, कम मीठा, कम मसाले कुछ ऐसे नुस्खे हैं जिनका हम लगातार प्रयोग करते रहते हैं| इस बात का ध्यान भी रखना होता है कि भोजन पर्याप्त स्वादिष्ट बना रहे|

यदि हम प्राकृतिक भोजन करें तो इस प्रकार की समस्याओं से बचा जा सकता है| प्रयेक प्राकृतिक उत्पाद में एक विशेष स्वाद और संतुलन होता है| प्रायः भोजन पकाने के क्रम में हम उसमे मसाले, नमक, मीठा और अन्य अवयव अप्राकृतिक रूप से जोड़ देते हैं| हमें फल, सलाद, कंद मूल आदि खाद्य पदार्थों को अपने भोजन में अधिक से अधिक शामिल करना चाहिए|

शहद एक प्राकृतिक खाद्य है जिसे बिना किसी श्रम के भोजन में सम्लित किया जा सकता है| यह सुपाच्य है और स्वादिष्ट भी| आज के समय में बाजार में लोकप्रिय ब्रांड का शहद बहुत आसानी से उपलब्ध है| इसे सलाद में डालकर उसका स्वाद बढाया जा सकता है तो चाय में डालकर चाय को अमृततुल्य बना सकते हैं| आज विभिन्न प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजन भी शहद से बनाये जा रहे हैं| हम सभी इस बात पर सहमत होंगे कि शहद से स्वादिष्ट मीठा पदार्थ अभी भी मानवता को ज्ञात नहीं है| इसके औषधीय लाभ अलग से हैं| यदि आप इतने संतुलन के बाद भी मोटापा महसूस कर रहे हैं तो गुनगुने पानी के साथ शहद का सेवन तो हमेशा ही एक विकल्प है|

Advertisements

मोटापा प्रबंधन में शहद&rdquo पर एक विचार;

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s