हरित प्रारंभ

हमारे गाँव देहातों में घूरे की पूजा होती है| होली और दिवाली की अगली सुबह हर घर के दरवाजे पर इसे यह पूजा होती है| ज्यादातर शहरी लोग आजकल किसी चित्र या गोबर से बनी किसी आकृति की पूजा कर लेते हैं| घूरा यानि वनस्पतिक कूड़ा (organic waste) जो प्राकृतिक खाद (natural or organic fertilizer) में बदल जाता है और प्रयोग में आता है| देश की लगभग एक चौथाई पढ़ी लिखी आबादी जो शहरों में पली बढ़ी है उसके लिए यह शायद कूड़े की पूजा हो मगर मुझे यह प्रकृति की पुर्नवीनीकरण (Recycling) की क्षमता की पूजा लगती है|

गांव में बाहरी हिस्सों ने प्रायः इस प्रकार के वानस्पतिक कूड़े (आर्गेनिक कूड़े)) के ढेर लगे होते हैं| लगभग हर घर – परिवार का अपना अलग घूरे का ढेर लगा होता है| हर कोई अपने घूरे पर पहरा तो नहीं लगता मगर पूरी तरह से रक्षा करता है क्योंकि यही घूरा उसके खेतों के लिए प्राकृतिक खाद बनने वाला है| भले ही हम शहर के लोग घूरे के ढ़ेरों को देख कर नाक – भौं सिकोड़ें मगर घूरे के ढ़ेर शहरों के बाहरी हिस्सों में लगे कूड़े के ढ़ेरों से यह बहुत बेहतर हैं| जहाँ शहरी कूड़े के ढेर लगातार बढती हुई समस्या हैं, ग्रामीण घूरे के ढेर वर्ष भर में खाद बनकर खेतों ने चले जाते हैं और शहरों में अन्न, फल, सब्जी आदि बनकर आ जाते हैं|

वैसे आजकल शहरों में भी हरे और अन्य प्रकार के कूड़े को अलग अलग रखने और उनके अलग प्रकार से निवारण की बात हो रही है| शायद किसी अच्छे दिन यह बातें हकीकत में भी तब्दील हो जाएँ| तब तक के लिए हम कुछ अच्छी शुरुवात तो कर ही सकते हैं|

मेरा बचपन भी अलीगढ़ शहर में बीता है और आर्य समाजी परिवार होने के कारण संध्या हवन के अलावा कोई और पूजा नहीं होती थी| मगर मेरी माँ को घूरे की पूजा का विचार बहुत प्रेरणा देता था|

हमारे घर में चाय ज्यादा नहीं पी जाती थी और जब भी चाय बनती माताजी चाय की छन्नी में बची हुई चाय की पत्ती को धोकर पौधों के गमलों में डलवा देती थी| इन पौधों में तुलसी प्रमुख था| शायद हमारे घर में चाय की पत्ती और तुलसी का नाता तब तक बना रहा जब तक कि तुलसी सूख न गई| यह प्रयोग शहर में आसानी से किया जा सकता है क्योंकि गमले लगभग सब के घरों में है| इस से खाद का खर्च भी बचता है|

कॉलेज के दिनों में जब भी हम घर से बाहर निकलते थे तो हाथ में एक थैला हमेशा रहता था, भले ही वो पोलिथीन की थैली ही क्यों न हो| माताजी की सख्त हिदायत थी| क्योंकि हम लोगों को बाजार में अचानक से ही किसी न किसी चीज को खरीद लाने की आदत थी| माताजी को प्लास्टिक की थैलियाँ से, और खासकर उनके कूड़ा होकर फैंक दिए जाने से सख्त नफ़रत थी| जब भी हमलोग कुछ भी सामान खरीदते तो अपने साथ ले जाई गई थैली या थैला प्रयोग करते| आजकल जब भी मैं बाज़ार जाता हूँ कपड़े के मजबूत थैले साथ रखता हूँ| हमेशा थैला या थैली साथ रखने की अच्छी आदत काफी हद तक छूट गयी है, मगर मैं उसे वापस अपनाने की कोशिश कर रहा हूँ|

बार बार बाज़ार से बोतल बंद पानी खरीदकर पीने के मुकाबले घर से पानी ले जाने की भारतीय परंपरा भी अच्छी और अपनाये रखने लायक परंपरा है| इससे पैसा बचना तो शायद मामूली बात है मगर इस से पर्यावरण को मदद मिलती है जिस पर पानी और अन्य पेय पदार्थों की बोतलें बहुत बुरा प्रभाव डालती हैं| बाज़ार में रखी हुई पानी की सुन्दर बोतलें अति स्वच्छ माहौल में तैयार की हुई हों या न हों मगर फैक्ट्री से दुकान तक के सफ़र में उन्होंने कितनी गंदगी झेली है हमें कोई नहीं बता सकता| बोतल के अन्दर का साफ़ पानी प्रायः वायरस और बेक्टीरिया के लिपटी बोतल के अन्दर भरा हुआ होता है| निश्चित रूप से घर का पानी स्वास्थ्य और पर्यावरण के लिए कहीं अधिक सुरक्षित है|

टिपण्णी: यह पोस्ट इंडीब्लॉगर के सहयोग से ग्रीनयात्रा द्वारा किये गए आयोजन के लिए लिखी गई है|

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s