घूम घुमक्कड़ घूम


घूमना भी अजब शौक है| घूमने वाला रास्तों पर घूमने से पहले अपने घूमने का रास्ता खुद बनाता है| आप कब घूमने चल देंगे यह खुद को भी दो दिन पहले तक नहीं पता होता| यह अचानक होने वाली घुमक्कड़ी ही जिन्दगी की असल मौज है|

चंडीगढ़ में अपने मित्र से बात करते करते अचानक तय हुआ कि कल चंडीगढ़ पहुंचा जाये| वैसे भी शनिवार मुझे घुमने फिरने के लिए शानदार दिन लगता है| आप अगर रविवार को आराम करते हैं तो हफ्ते भर का काम और घुमने फिरने की थकान सब मिट जाता है और आप पूरी तरह तरोताजा होते हैं| वरना घूमना भी अगर आपके टन – मन को आराम न दे और काम बन जाये तो आप इसका आनंद नहीं उठा सकते|

बस लैपटॉप उठाया,  ट्रेवल साईट देखी, फ्लाइट बुक| अब टैक्सी बुक करने की बारी है, यह भी तो तो चार क्लिक का काम है| लगता है तकनीकि हम घुमक्कड़ों के लिए वरदान बन कर आई है| घूमने का सबसे साधारण और सबसे महत्वपूर्ण नियम – सामान कम| तो एक हैण्डबैग में जरूरी सामान और कपड़े डालो और चल दो| इस से फायदा यह है कि आप वेब चेक – इन भी आसानी से करवा सकते हैं|

सुबह सुबह की फ्लाइट मुझे बेहद शानदार लगती है| आखिर आप दिन निकलते ही आसमां के ऊपर होते हैं| बादलों के ऊपर उड़ने का अपना मजा है| कम दूरी की हवाई यात्रा में बस यही शिकायत है, सफ़र शुरू होने से पहले ही ख़त्म हो जाता है|

जाकिर हुसैन रोज गार्डन , चंडीगढ़   चित्र: ऐश्वर्य मोहन गहराना
जाकिर हुसैन रोज गार्डन , चंडीगढ़
चित्र: ऐश्वर्य मोहन गहराना

केवल हैण्ड बैग लेकर चलने का एक फायदा यह भी है कि आपको गंतव्य पर अपने सामान का इन्तजार नहीं करना पड़ता| मेरा अगला कदम था चंडीगढ़ का प्रसिद्ध रोज़ गार्डन| सुबह सुबह हजारों गुलाबों के बीच घंटा भर बिताना तो बनता है| मेरे मेजबान भी वहीँ पास में रहते हैं| तो उन्हें भी वही आना था| हमने गुलाबों के बीच चहल कदमी की, नाश्ता किया और फिर रॉक गार्डन का रुख किया| मैं सोचता हूँ, हजारों गुलाबों के बीच से निकाल कर हजारों मूर्तियों के बीच पहुँच रहा हूँ|

गजब की जगह है| ध्यान से देखो तो कबाड़ और पुरानी टूटी फूटी चीजों से रची गई एक सृष्टि| एक रूहानी सी दुनियाँ में एक रोमानी सा भटकाव| मैं विस्मृत हूँ| शायद किसी ने परीकथा लिखी है| नहीं, यह परीलोक ही है, जिसे सुला दिया गया है| वक़्त रुक गया है, घड़ी चल रही है, पता नहीं चलता कब चार घंटे बीत गए| जैसे ही बाहर आये तो तेज भूख सताने लगी|

हम अब सुखना झील की तरफ जा रहे थे| वही सबने अपनी अपनी पसंद का कुछ न कुछ खाया| और इसके बाद एक घंटा नौकायन| झील में नाव चलाने का अपना आनंद है, अगर मित्र या परिवार साथ हो तो यह आनंद कई गुना बढ़ जाता है| बाद में थोड़ी देर झील के किनारे किनारे दूर तक चलते गए|

वैसे आनंद तो बाजार में घूमने में भी आता है| शाम को हम सुखना झील से हम बाजार के लिए चल दिए| चंडीगढ़ का सेक्टर 17 का बाजार तफ़रीह और घूमने फिरने के लिए बहुत शानदार जगह है| यहाँ भीड़ कितनी भी हो सब आपको किसी बाजार में नहीं पार्क में घूमने जैसा अहसास होता है| देर शाम तक यूँ ही घूमते फिरते गाते – गुनगुनाते रहे| खाने पीने के बाद थोड़ी देर मेजबान के घर गए| यह एक शगल था| जिसके बुलाने पर आये हों उसका घर देखना तो बनता है|

मेरा अब चंडीगढ़ रुकने का मन था| मगर रविवार को मेरा आराम करने का दिन है| काम –  शौक  -आराम और घर – परिवार में एक संतुलन होना चाहिए| सामने से टैक्सी ली और चल दिए| मुझे यहाँ से दिल्ली में अपने घर तक बहुत समय नहीं लगेगा| एक दिन के लिए इस तरह घूमने जाना कोई मुश्किल काम नहीं है:

सुबह 4.30 घर से एअरपोर्ट के लिए प्रस्थान

सुबह 6.00 (जेट एयरवेज) विमान चंडीगढ़ के लिए रवाना

सुबह 7.15 विमान चंडीगढ़ पहुंचा

सुबह 8.00 ज़ाकिर हुसैन रोज़ गार्डन

सुबह 10.00 रॉक गार्डन

दोपहर 14.30 भोजन

दोपहर 15.30 सुखना झील नौकायन

शाम 17.30 सेक्टर 17 मार्किट

शाम 22.00 खाना – पीना और पुरानी यादें – नई गप्पें

रात 00.00 रेलवे स्टेशन प्रस्थान और भारतीय तरीके से खूब सारी विदा

रात 01.10 कालका हावड़ा मेल से दिल्ली

सुबह 5.30 दिल्ली