विश्व-बंदी ८ मई


उपशीर्षक – लैपटॉप – तालाबंदी में अत्यावश्यक उपकरण

इस तालाबंदी के दौरान सबसे अधिक प्रयोग के बाद भी कम चर्चा में रहा है ऑफिस प्रदत्त लैपटॉप|

हर ऐसी कंपनी जिसने अपने अधिकारीयों और कर्मचारियों को लैपटॉप दिए हैं, वह इस समय सबसे अधिक सुविधाजनक स्तिथि में हैं| उनके लोग बेहतर काम कर पा रहे हैं और उनमें आपकी समूह भावना अधिक विकसित होकर उभरी है| मिलजुल कर समय पर भली प्रकार से समय पर काम कर कर दे पाना, और परिवार में शांति बहाल रखना जैसे काम इन लैपटॉप की प्रमुख उपलब्धि रहे हैं| अगर कंपनी प्रदत्त वाई-फाई भी है तो आप निश्चित ही अच्छी कंपनी के अच्छे अधिकारी/कर्मचारी हैं| बधाई|

दूसरे स्तर पर वो लोग हैं जिनके पास घर में अपना लैपटॉप या डेस्कटॉप हैं जिसे वह कार्यालय के लिए प्रयोग कर रहे हैं| इनका काम चल रहा है| परन्तु इसमें कंपनी की छवि अच्छी नहीं उभर रही है| घर में झगड़ा है कि कौन कब उपकरण का प्रयोग करेगा| समय पर काम नहीं हो पा रहा और शांति घर से गायब है|

सबसे ख़राब स्तिथि उन लोगों की है जिनके नियोक्ता ने उन्हें लैपटॉप नहीं दिया हैं और न ही उनके पास घर में समुचित संख्या में निजी लैपटॉप हैं|

यह स्तिथि उस समय भयाभय हो जाती हैं जब पति पत्नी दोनों को ऑफिस का काम करना हैं, बच्चों की भी ऑनलाइन पढाई होनी है| मोबाइल बहुत देर तक साथ नहीं दे पाता – आप न ठीक से लिख सकते हो न ठीक से बात कर सकते हो| न नियोक्ता ख़ुश, न कर्मचारी, न अधिकारी और न परिवार|

कंपनियों को समझना होगा – एक लम्बा समय ऐसा जाने वाला है जिसमें कर्मचारियों को कार्यालय में कम से कम बुलाए जाने में ही भलाई है| वरना बिना चेतावनी कभी भी चौदह दिन के लिए कार्यालय बंद करना पड़ेगा|

भले ही सरकारें श्रमिक कानूनों को रद्द करने की गलती कर रही हैं, इसे स्वीकार करना भारतीय कंपनियों के लिए बहुत नुक्सानदेह होने जा रहा है – जैसे १९५०-१९९० तक का संरक्षणवाद| देश का सबसे बड़ा आर्थिक सम्पदा – मानव मूल्यहीन होने जा रहा है| प्रतिफल की आशा करना त्रुटि होगी|

Enter your email address to follow this blog and receive notifications of new posts by email.