चैनाराम का घेवर


इस साल तालाबंदी के बीच दिल्ली वालों ने शराब के लिए लम्बी कतारें लगाई तो खबर बनी| मगर ऐसा नहीं कि दिल्ली वाले सिर्फ़ पीने के लिए कतार में लगते हैं| बढ़िया खाने के लिए लगने वाली इन कतारों में लगने वालों में मैं भी सम्मलित हूँ| बीते शनिवार मैं एक बात फिर एक खास कतार में था – “करोना से डरोना” मन्त्र का जाप करते हुए| यह दिल्ली की सबसे अनुशासित कतारों में से एक है| यह सावन में लगती है| कतार में लगने वाले भोले के भक्त तो हैं पर कांवर के लिए नहीं, परन्तु घेवर के लिए कतार में लगते हैं|

दिल्ली में सबसे अनुशासित सालाना कतार चैनाराम हलवाई की दुकान पर होती है – Chaina Ram Sindhi Confectioners| साल भर इस दुकान पर बेहद संजीदा किस्म के खास शौक वाले ग्राहकों की भीड़ रहती है| यहाँ आम जमावड़ा कराची हलवा और सिन्धी नमकीन के शौक़ीन लोगों का रहता है| इस दुकान पर छोले भठूरे खाकर नेताओं के राजघाट पर दिनभर के उपवास के लिए जाने का समाचार २०१८ में चर्चा में था|

जब सावन के अंधे को हरा हरा दिखता है तो मेरे विचार से सावन के भूखे को घेवर का स्वाद आता रहता होगा| अगर दिल्ली में यह घेवर चैनाराम हलवाई का हो तो बात खास है| मैं पिछले पांच सावन से इस दुकान पर कतार में लगता रहा हूँ और जब भी दो किलोग्राम से कम घेवर लेकर घर पहुँचा हूँ तो घर पर कठिनाई का  सामना करना पड़ा है|

घेवर का आकर औसत पर थोड़ा दाना बड़ा है – यह एक दम ठीक सिका हुआ है| मेरे हिसाब से इसमें मैदा के साथ कुछ न कुछ तरीका जरूर अपनाया गया है| खास बात है कि यहाँ ज्यादा मीठी परन्तु कम गाढ़ी और मोटाई में पतली रबड़ी का प्रयोग होता है, जिससे यह बहते हुए घेवर की तह तक हाती जाती है और पूरे घेवर में अपना स्वाद छोड़ती है| एक घेवर का औसत वजन प्रायः आधा किलो का रहता है| इसे मूँह में घुलते महसूस करने और धीरे धीरे इसका स्वाद लेने का आनंद अलग ही है|

ऐश्वर्य मोहन गहराना 

नए ब्लॉग पोस्ट की अद्यतन सूचना के लिए t.me/gahrana पर जाएँ या ईमेल अनुसरण करें:

Enter your email address to follow this blog and receive notifications of new posts by email.