मिटी न मन की खार – (कुण्डलिया)

 

एक शहीद पैदा किये,

एक दुश्मन दिए मार|

दंगम दंगम बहुत हुई,

मिटी न मन की खार|| दोहा १||

 

मिटी न मन की खार,

दर्पण भी दुश्मन भावे|

दर्प दंभ की पीर,

अहिंसा किसे सुहावे|| रोला||

 

दुनिया दीन सब राखे,

सब झगड़ा व्यापार|

मार काट बहुत बिताई,

अमन के दिन चार|| दोहा २||

 

उपरोक्त कुण्डलिया छंद की रचना के कुछ छिपे हुए उद्देश्य हैं| उन्हें जानने के लिए इसके छंद नियमावली पर एक निगाह डालनी होगी|

दोहा + रोला + दोहा = कुण्डलिया|

ये रचना प्रक्रिया रसोई घर में सेंडविच बनाने की प्रक्रिया से बिलकुल मिलती जुलती है|

यह रचना समर्पित है कश्मीर के लिए| कश्मीर जो आज कुण्डलिया बन गया है; भारत पाकिस्तान के बीच, भारत की सत्ता और विपक्ष के बीच, पकिस्तान के सत्ता विपक्ष के बीच, हिन्दू और मुसलमान के बीच, हमारी खून की प्यास के बीच| कुण्डलिया की एक और खासियत है, पहले दोहे का अंतिम चरण, रोले का पहला चरण होता है| यहाँ पर मैं इसे आज के सन्दर्भ में घिसे पिटे तर्क – कुतर्क के बार बार दोहराव के रूम में देखता हूँ| अगली विशेष बात जो ध्यान देने योग्य है, वह है कुण्डलिया का पहला और अंतिम शब्द एक ही होता है| जैसे जीवन में बातचीत में ही झगडे शुरू होते है और घूम फिर कर बात चीत से ही समाप्त करने पड़ते हैं|

एक दूसरा कारण इस कुण्डलिया को लिखने का और भी रहा है| अफजल गुरु की फांसी| कई खबरें आतीं हैं, जिनसे लगता है कि उसे पूरी तरह न्याय नहीं मिला और देश की जनता के आक्रोश को शांत करने और असली दोषियों तक न पहुँच पाने के सत्ताधारियों की निराशा ने उसे येन केन प्रकारेण दोषी ठहरा दिया| साथ ही मैं किसी भी दशा में फांसी की सजा को न्याय के विरुद्ध मानता हूँ| फांसी दोषी को मार तो देती है पर न तो उसे पूरी सजा देती है, न पीड़ित को पूरा न्याय| युद्ध, छद्म युद्ध, गृह युद्ध, महा युद्ध आदि के मामलों में तो यह दुसरे पक्ष के लिए शहादत का उदाहरण तक बना देती है| यह कुण्डलिया इसी प्रसंग में लिखा गया है|

Advertisements

ऐश्वर्य के घर शिशु जन्म

यह दुनिया बहुत बड़ी है| इसमें एक छोटी सी दुनिया है, जिसमें हम रहते हैं| यह दुनिया एक दम अनोखी है: यहाँ बड़े बड़े दर्द और छोटी छोटी खुशियां है, अपनी लहरें, अपना पानी है; वक्त की अपनी रवानी है| हमारी यह छोटी सी दुनिया बड़ी सी दुनिया में जगह जगह फैली हुई है: अलीगढ़, दिल्ली, देहरादून, इलाहाबाद और मुंबई| यह दुनिया रेडियों, टेलिविज़न, मोबाइल फोन, इन्टरनेट, ट्विट्टर, फेसबुक, तक फ़ैल जाती है| यह दुनियां हाथ फैला कर बहुत कुछ अपने में समां लेती है| इस दुनिया में हम रहते है, यह दुनिया हमने बनाई है, इस दुनिया ने हमें बनाया है| यह सूरज, चाँद, सितारों वाली दुनिया है|

इस दुनिया में एक अन्तरंग गहमागहमी है जिस पर किसी भी अखबार की दखल नहीं है; न ही इसकी दरकार है| इस दुनिया में पत्रकार भी हम है और चित्रकार भी| रिपोर्ट भी हमारी है और सटायर भी| हमारी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी हमारी ही है|

इस छोटी सी दुनिया में एक नए प्राणी का आगमन है| काफी समय पहले जब मेरी पत्नी ने इस बारे में कुछ महसूस किया तब हम किसे अन्य कार्य में व्यस्त थे और महीने भर तक चिकित्सक से सलाह मशविरा लेने के लिए समय नहीं निकाल पाए| समय बीत रहा था पर जीवन सांस लेने की अनुमति नहीं दे रहा था| तभी अचानक हमें एक शनिवार की शाम बाहर जाना था और दिन में हमारे पास समय था और हमने इस समय का सदुपयोग करने का निर्णय किया| उस दिन दोपहर को चिकित्सक में हमें बधाई दी और कुछ जाँच आदि करने के लिए कहा| इस के बाद सभी व्यस्तता और समस्याओं के बाद भी हम अपने अंदर एक बदलाव महसूस करने लगे| यह एक सुखद अनुभव रहा|

कुछ समय बाद जब हमारी अन्य व्यस्तताएं कम हुई हमने नए प्राणी के बारे में और अधिक सोचने शुरू कर दिया| पत्नी ने गर्भावस्था के बारे में एक पुस्तक पढ़नी प्रारम्भ कर दी तो मैंने इंटेरनेट पर काफी जानकारी इक्कठा की| कई बार ऐसा लगता था कि हमारे अलावा तो कोई और कभी माँ-बाप नहीं बना है| समय के साथ हमारी उन्त्सुक्ता बढ़ रही थी तो पत्नी को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा था, जो कि मानसिक तनाव और शारीरिक समस्याओं को लेकर थी| चिकित्सक इस सब में पैसा बना रहे थे और हम खुश थे| मैंने अपने जीवन का काफी समय चिकित्सालयों के चक्कर काट कर बिताया है पर इस बार हमें इस बात पर कोई दुःख नहीं हो रहा था| हमारी दुनिया में तमाम के बाद भी कुछ था जो नया था और जोश भर रहा था| पत्नी अपने कार्यालय, घर और गर्भवती माँ के रूप में अपनी जिम्मेदारी के बीच संतुलन बैठने में लगभग नाकाम हो रही थी और यही परीक्षा थी| पत्नी को सास का अभाव खाल रहा था|

हमने तय किया कि हमारे शिशु का जन्म उसकी माँ के जन्म स्थान देहरादून में होगा| इसके कई कारण रहे| अब नई समस्याएं थी; कार्यालय से अवकाश, दिवाली और अन्य त्यौहारों का मौसम, देहरादून कि ठण्ड, दिल्ली से देहरादून कि यात्रा, सही चिकित्सक का चुनाव| धीरे धीरे इन सभी को सुलझाया गया| चिकित्सकों ने बताया कि शिशु ने गर्भ में तिर्यक स्थिति अपना ली है और यह स्थिति यदि बनी रहती है तो समस्या हो सकती है|

इस समय हमने एक और निर्णय लिया; बच्चे के स्टेम सेल को परिरक्षित करवाने का| यह निर्णय हमारे पुराने अनुभवों और चिकित्सकीय अनुसंधानों के नए कारनामों का नतीजा था| इस क्षेत्र में कार्यरत कई सेवा प्रदाताओ से बात की और एक का चुनाव कर लिया| इस निर्णय से हमें लगभग एक लाख रुपये का अतिरिक्त खर्च करना था पर भविष्य का डर सदा ही वर्तमान के गणित पर भारी पड़ता है|

पत्नी जी ने 23 अक्टूबर 2011 के लिए देहरादून शताब्दी के एक्स्क्युतिव श्रेणी डिब्बे में अपना आरक्षण करवाने का निर्णय सुनाया| यह एक यादगार यात्रा थी| उस दिन कि विशेष बात थी कि चाय न पीने का दवा रखने वाली पत्नीजी ने कम से कम तीन बड़ा कप चाय पी| दूसरा पहली बार ऐसा हुआ कि गाड़ी किसी स्थान पर पांच मिनिट से अधिक रुकी और मैंने प्लेटफोर्म का दौरा नहीं किया| (देहरादून शताब्दी सहारनपुर पर आधा घंटा रूकती है) इस प्रकार पत्नी जी अपने मायके जा पहुंची|

नए स्थान पर नए चिकित्सकों ने पुनः जांचें की और नए निर्णय दिए| शिशु में अपनी तिर्यक स्थिति को सुधार लिया था पर नै समस्या थी कि अब नाल उसके गले पर लिपटी हुई थी| चिकित्सकों को अब अपने अनुभव और ज्ञान पर कम भरोसा था और वो किसी भी प्रकार का दांव नहीं खेलना चाहते थे| इसमें उनका पैसा भी बनता है और इज्जत जाने का डर भी नहीं होता| उनका कहना था कि शल्य क्रिया होनी चाहिए और हमें उसके लिए समय का निर्णय करना था| इस समय सभी प्रकार की शंका और समाधान सामने थे| पत्नीजी का रक्तचाप इस दौरान महंगाई से तेज बढ़ने लगा| मैंने कई बार अनुभव किया है कि पत्नीजी कठिन समस्याओं का समाधान जल्दी कर लेती है और सरल निर्णय लेने में रक्तचाप बढ़ा लेती है|

अनुभव ने मुझे सिखाया है कि भले आप कोई अंधविश्वास न माने मगर इस भारतीय समाज में उसको अवश्य पूरा करें, वरना समाज आपको जरूर परेशां कर लेगा| इस कारण, गुरुवार नकार दिया गया क्योकि मान्यता के मुताबिक, गुरुवार को किया गया काम दुहराया जाता है और कोई भी बार बार शल्यक्रिया नहीं चाहता है| उसके बाद मूल नक्षत्रों का समय है जो कि शनिवार संध्या काल में समाप्त होता है| इस समय में पैदा हुआ शिशु परिवार के लिए कठनाई का सन्देश लाता है| परन्तु वास्तव में यह हिंदू ब्राह्मणों की आय का एक और स्रोत है| यह मूल दोष, कुछ पूजा पाठ करने के बाद भगवान के इन दूतों (ब्राह्मणों) को खिलाने, पिलाने और दान दक्षिणा देने से दूर हो जाता है| परन्तु यह पूजा – पाठ शिशु की माँ के लिए कष्टकारी समय होता है| अतः अब रविवार का समय तय हुआ है|

रविवार को प्रातः 7 बजे हम चिकित्सालय पहुँच गए और शल्य क्रिया की तैयारी शुरू हो गई| ठीक 8 बजे पत्नी को शल्यकक्ष में ले जाया गया और फिर 9 बजे उपचारिका (नर्स) नन्हे शिशु को लेकर उपस्तिथ हुई; “बेटा आया है|” यह खुशी के क्षण थे| लिखित संदेशों और फोन के जरिये सभी को सूचित किया गया| मैंने लिखा; “हमारे घर बेटा आया है|” लोगों के बधाई सन्देश और फोन आने लगे| एक अजब माहौल था: नन्हा शिशु, बेहोश माँ, उनका बढ़ता रक्तचाप, खुश परिवार, भागते दौड़ते नाना, उछलती कूदती नानी, हँसते-फूलते बुआ, मौसी, मामा, और चिंतित बाबा के बजते फोन, शिशु रुदन, बधाई सन्देश, लंबी फोन वार्ताएँ, दवाएं, मिठाइयां, अजब – गजब होता मैं| नयी मांगें हो रही थी : मित्र-सम्बन्धी लोग फोटो की, शिशु भोजन की, माँ शांति की, परिवार उत्सव की| मेरी छोटी बहन ने शिशु के लिए पुकारू नाम तय कर लिया गया था; “आदि; जो मेरे और पत्नी ले नामों ले प्रथमाक्षर ऐ-दि का परवर्तित हिंदी रूप है|

शाम को पत्नी ने पूरी तरह होश आने पर अपने मित्रों को भी सन्देश दिए| मैंने मित्रों को भेजने के लिए सांयकाल एक फोटो लिया, जिसे अगली प्रातः 5.45 भारतीय मानक समय पर http://twitter.com/AishMGhrana और उसके तुरंत बाद http://www.facebook.com/#!/aishwaryamgahrana?sk=info पर यह चित्र सम्बन्धियों और मित्रों को भेज दिया| अब बधाइयों का नया सिलसिला था|

अगले पांच दिन शिशु चिकित्सालय में इस विश्व को समझने में लगा रहा और हम उसको| नए शिशु को स्वस्थ्य सम्बन्धी छोटी मोटी समस्यायें भी परेशां कर रही थी, इसलिए शिशु चिकित्सा विशेषज्ञ भी बुलाये गए| उसकी पहला रोना, पहली जम्हाई, पहली डकार, सब इंगित किये गए| क्योंकि उसकी माँ दूध नहीं पिला सकती थी तो उसको शिशु आहार दिया गया| उसकी माँ ने उसे मंगलवार को पहली बार दूध पिलाने का प्रयास किया|

शुक्रवार को सभी लोग उसकी नानी के घर पहुँच गए| हिंदू रीति के हिसाब से छठी का कार्यक्रम किया गया| बुआ के द्वारा खरीद्वाए गए कपडे पहनाए गए| शाम को महिला संगीत हुआ|

अब मुझे नन्हे शिशु आदि के साथ एक रात बिता कर दिल्ली वापस लौटना था|

लड़की का घर

अभी हाल में पत्नी जी के साथ उनकी माँ के घर जाने
का मौका मिला| उनका वहाँ पर बेसब्री से इन्तजार हो रहा था| वैसे भी भारतीय
मानसिकता में विवाहित पुत्री बेहद लाडली, प्यारी, स्वागतयोग्य और इष्ट देवी सदृश्य
होती है| जैसे ही हमने घर में प्रवेश किया, पड़ोस से कोई चाची-ताई-बुआ-मामी-मौसी आ
पहुँची; पूछने लगी “ससुराल से आ गईं बिटिया?” पत्नी जी ने हाँ में जबाब दिया पर
मैंने विरोध किया;”ससुराल तो अलीगढ में है ये तो दिल्ली से आयीं है”| इसपर वह
चाची-ताई-बुआ-मामी-मौसी कहने लगीं, “ चलो ठीक है, पति के घर से सही, बेटा अब आराम
कर लो, मायका मायका होता है, मायके जैसा सुख कहीं नहीं”| मैं सोचने लगा, मेरी
बेचारी पत्नी जी का घर कहाँ है? उनके पास, माँ, पति और सास का घर है, अपना नहीं|

क्या भारतीय स्त्री को घर का कोई सुख है या सब
जगह से वह बाहर है|

एक बात और; माँ और सास के पास घर है, नव-विवाहिता
बेचारी… बच्चों की शादी तक.. बेघर हैं|

क्यों?

क्यों??

क्यो???

तब क्या जब एक नौकरी पेशा नव-विवाहिता महानगर में
पति के साथ रहती है और किराए में उसकी आधी भागीदारी है?

क्या इसके लिए क़ानून लाना होगा? क्या इसके लिए
सरकार दोषी है? क्या इसके लिए लड़की दोषी है? क्या पडोसी दोषी है? क्या सास ससुर
दोषी है? क्या माँ-बाप दोषी है? क्या समाज दोषी है?

माँ बाप अपने घर को लड़की का मायका बता कर अपने घर
को बेटे के लिए बचा लेते है|

सास-ससुर अपने घर को इस बाहरी औरत से तब तक के
लिए बचा लेते है, जब तक वो इस घर में पुरानी, विश्वस्त, अपनी और अभिन्न न हो जाए|

मायके और ससुराल से दूर रोजी रोटी की जिद-ओ-जहद वाले
रैन-बसेरे को कोई भी स्वीकारने नहीं देता|

क्या करे?

कोई तो जबाब दे??

कोई तो जिम्मा ले???

दंगानामा

भैया रे, अब तो सुना है कि विलायत के लन्दन शहर में भी दंगा हो गया| चलो जी अब हमारा अलीगढ और लन्दन भाई भाई हो गए इस नाते| चलो पहले अपने दर्द दिखा कर मन हल्का कर ले फिर लन्दन देखेंगे|

बचपन में अगर कोई पूछता कि तुम्हारे अलीगढ में दंगा क्यों होता है, तो मन करता कि पूंछू कि तुम्हारे पेट में मरोड़ क्यों होता है| अगर हम किसी नाते रिश्तेदारी में जाते और बच्चों का हुडदंग होता तो नाक चढ़ा कर कोई न कोई जनानी बोलती, अलीगढ वाले आये है; सबको पता चल रहा है| एटा वाली मौसी के पडोसी बोलते भाई, हमारे यहाँ भी तो मुसलमां उतने ही है जितने अलीगढ़ में; मगर हमारे यहाँ तो दंगा नहीं होता| अब भाई दंगा करने के लिए भी ज़िगर चाहिए होता है, कारण ढूँढना पड़ता है, तमाम बातें होती है| फिर चुनाव वगैरह के समीकरण भी देखने होते है| ऐसा थोड़े है कि मन आया और; अइयो रे और दइयो रे; शुरू धूम-धडाका, फटे पटाखा|

बारह तेरह साल पहले के दंगे को लें, क्या बात थी क्या नजारा था| मैं धर्मसमाज कालिज में पढ़ता था, सकूं भर बसंत बहारी दिन थे| सुबह पढ़ने निकले और अचलताल होकर क्लास रूम पहुँच गए| अभी दस मिनट हुए थे कि बूढ़ा चपरासी भागता आया, प्रिंसिपल साब ने बोला है दंगा हो गया है, पढ़ाई बंद करो, बच्चन को घर भेज दो| अब हमारा सनकी प्रोफेसर, बोला कब हुआ दंगा, अभी दस मिनिट पहले तो घर से आ रहा हूँ, कहीं कोई चर्चा तक नहीं थी| ये साला बूढ़ा सनक गया है| चपरासी अपना सा मुहँ और फटा कलेजा लेकर चला गया| पीछे पीछे लिखित फरमान आ पहुँचा| पता लगा कि आधा घंटा पहले बाहर अचल पर दंगा हुआ है, सराय सुल्तानी पर आगजनी भी हो गयी है| अब मैं सोचूँ, भाई आधा घंटा पहले दंगा हुआ, पन्द्रह मिनिट पहले मैं ठीक अचल पर था, दस मिनिट पहले आगजनी भी हो गयी| चलो खैर, कुछ सोचते विचारते घर को निकल गया| रस्ते में हर किसी को घर लोटने की जल्दी थी, एक दुसरे कि चिंता थी| हिन्दू इलाके के लोग मुसलमान को देख कर जल्दी घर जाने कि सलाह दे रहे थे तो एक नातेरिश्ते ले दुश्मनों से बचकर चलने की सलाह भी मुफ्त दे रहे थे| इन मौको पर रंजिश निकालने का खूब मौक़ा रहता है| घर मेरा लाइन पार दस मिनिट दूर था| बे मौक़ा घर पर देखकर माँ को गुस्सा आया जब बताया कि दंगा है तो उनकी चिंता बढ़ गयी| बोली दौड़ कर बहन को देख ला वो तो कलिज से नहीं लोटी, तब तक मैं सामान कि लिस्ट बना देती हूँ, बाजार से ले आना| मैं उलटे पाँव लौट लिया वापस कॉलिज पहुँचा| वहाँ पर चपरासी ने बोला सब लड़कियों को पिछले दरवाजे से लाइन पार करा दिया है अब तक तो लली घर पहुँच गयी होगीं| लौटे तो रास्ते में फ्लैग मार्च शुरू हो चुका था| आगे आगे एक जीप में कर्फू का एलान हो रहा था और जनता से जल्द घर पहुँच जाने की अपील थी| जनता सुन नहीं रही थी, सबको गल्ला राशन जो खरीदना था| पीछे पुलिस की खाली गाड़ियां थीं और उनके पीछे डरे सिमटे पैदल सिपाही| अलीगढ  पुलिस के इस साहसिक शक्ति प्रदर्शन पर मुझे अंदर ही अंदर हँसी आ रही थी| आखिर ये पुलिस वाले भी तो इंसान ही तो  है| जब घर पंहुचा तब तक बहन घर पर पहुँच गया| तभी माँ ने आकार सामान की लिस्ट पकड़ा दी| अनुभव बताता है कि अगर घर में सामान नहीं रहा तो दंगे बहुत भारी पड़ सकते है| अगर आपके घर में पूरी रसद है तो आप सुरक्षित है|

मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि अलीगढ़ में दंगा हुआ है, मुझे लगता था कि कोई सरकारी मजाक है| मगर शाम को आकाशवाणी, दूरदर्शन और बीबीसी ने भी दंगो की पुष्टी कर दी थी| विदेश के किसी अखबार में लिखा गया कि भारत की राजधानी की नाक के ठीक नीचे गृहयुद्ध की स्थिति बन रही है| खैर, अब यह टीवी पर सिनेमा देखने, सड़क पर क्रिकेट खेलने और मन करने पर पढाई करने का दिन था| इस समय दुनिया की कोई भी ताकत अलीगढ़ में बिजली काटने का आदेश नहीं दे सकती थी| पानी नल से खत्म नहीं होता था| जिन इलाको में पूरा कर्फू था वहाँ पर जरूर बच्चे चोर सिपाही या आई स्पाई का खेल रहे थे जिसमे गलियों में उंघते पुलिसिये वास्तविक सिपाही थे|

 

एक और दंगे की याद है| मैं एक चार्टर्ड अकाउन्टेंट फर्म के साथ काम कर रहा था| हम अपने जिस क्लाइंट के दफ्तर में थे वो मुस्लिम थे और एक को छोड़ कर उनके सारे मुलाजिम भी| दंगे की खबर आते ही उनका हुक्म आया की पास की दूकान से समौसे मांगा कर हम लोग खा पी लें| जैसे पुलिस की गाड़ी आती है वह हमें खुद हमारे मुहल्लों तक छोड़ देंगे| हमारा एक ट्रेनी अलीगढ़ के बाहर का था, बोला कहीं मुसल्ला मार तो नहीं देगा| मैंने कहा, घर बुलाएं मेहमान को कौन मारता है| खैर, जब पुलिस की गाड़ी आयी हम क्लाइंट की गाडी में थे और पुलिस की गाड़ी हमारे आगे आगे| आखिर वो हमें पुलिस के भरोसे नहीं छोड़ सकते थे, क्या पता नेताओं के क्या आदेश हों|

इस तरह अलीगढ़ के दंगे कुछेक मौतों के अलावा आराम से बीत जाते है| मगर देश भर नफरत का गंदा जलील खेल और बढ़ जाता है| लोग अपनी आपसी रंजिश निपटा लेते है, और मरने वाले के घरवाले मुआवजे के लालच में चुप भी रहते है और अगले दंगे का इन्तजार करते है|

अलीगढ़ का आखिरी बुरा दंगा १९९२ वाला था|

(सभी विचार मेरी निजी समझ पर आधारित है, राजनितिक, सरकारी और अन्य निजी विचारों से कतई मेल नहीं खाते|)