विश्व-बंदी २४ अप्रैल


उपशीर्षक – स्वदेशी और स्वावलंबन

क्या होता, अगर ३१ दिसंबर २०१९ को मैं आपसे कहता कि भारत को स्वदेशी और स्वावलंबन के सिद्धांत की और बढ़ना चाहिए और इन विषयों पर गाँधी के विचारों पर चिन्तन करना चाहिए? शायद मैं खुद अपने आपसे सहमत नहीं होता| परन्तु इस करोना काल में हम सब इस पर विचार कर रहे हैं| मैं नियंत्रित विदेशी निवेश और खुले व्यापार का समर्थक रहा हूँ| मेरी समाजवादी शिकायतें छद्म-पूंजीवाद से जरूर रही है|

पिछली शताब्दी में स्वदेशी के नाम पर स्थानीय उद्योगों के अपरिष्कृत उत्पाद ही जनता को उपलब्ध होते रहे हैं| यही कारण था कि १९९० तक भारत में विदेशी सामान को लेकर इतना उन्माद था कि तस्करों की पूरी फ़ौज माँग पूरा करने में लगी थी| भारत मानवता के इतिहास के लम्बे समय (५००० में से शायद पिछले २५० वर्ष छोड़कर) तक एक निर्यातक रहा है और विश्व-व्यापार के बड़े हिस्से पर अरब व्यापारियों के साथ हमारा नियंत्रण रहा है| यह कहना कि स्वावलंबन के नाम पर हम वर्तमान खुली विश्व व्यवस्था से पीछे हटें तो यह विश्व निर्यात और विश्व अर्थ-व्यवस्था पर पुनः स्थापन्न होने की भारतीय सम्भावना को नष्ट कर देगा|

परन्तु हमें संतुलन की आवश्यकता है| यह संतुलन तीव्र विकास से ही आ सकता है| हमें अपनी अपार जनशक्ति को प्रयोग करने की आवश्यकता है| हमें समझना है कि हमारा जनसँख्या घनत्व अभी तक हमारे हित में ही है और हालात उतने ख़राब नहीं जितने प्रचारित होते रहे हैं – जापान का उदहारण सामने है|

करोना काल यह समझने का अवसर है कि हम किस प्रकार और किस मार्ग पर आगे बढ़ना चाहते हैं| हमारी विश्व-व्यापार का मार्ग हजारों साल अरब व्यापारी रहे हैं हम उनके सहारे दुनिया में अपनी अर्थव्यवस्था को शीर्षस्थ बना कर रख सके हैं| यह स्तिथि तब पलट गई थी जब यूरोपीय व्यापारियों ने हमारे उत्पादन तंत्र पर नियंत्रण हासिल किया था| हमें व्यापार, पूँजी और नियंत्रण के चक्र को समझकर ही कुछ फ़ैसला करना चाहिए|

Enter your email address to follow this blog and receive notifications of new posts by email.