चलचित्रमयदूरवार्ता


चलचित्रमयदूरवार्ता – कितना अच्छा शब्द है? विडियोकॉल को शायद यही कहना चाहिए| मुझे विडियोकॉल शब्द से कोई कष्ट नहीं है परन्तु विडियोकॉल अनजाने में ही एक नई समस्या बन रही है| करोना काल ने इस का बहुत प्रचार-प्रसार किया है| परन्तु जब भी कोई नई सुविधा हमारे सामने आती है तो अतिशय उपयोग एक अनजान समस्या के तौर पर सामने आता है|
इन समय हमारे बच्चे ऑनलाइन कक्षाओं में पढ़ रहे हैं जिस कारण उनका अतिआवश्यक स्क्रीन टाइम दो घंटे (सरकारी विद्यालय) से लेकर छः घंटे (निजी विद्यालय) है| इसके अतिरिक्त खेलकूद के बढ़िया विकल्पों पर लगे आत्मप्रतिबन्ध के चलते उन्हें कम से कम एक से दो घंटा टेलीविजन देखने का अधिकार होना ही चाहिए| इसके अतिरिक्त परिवार, पारिवारिक संबंधियों, मित्रों आदि में वीडियोकॉल का चलन अचानक बढ़ गया है| कितना अच्छा है कि करोनाकालीन अकेलेपन में हम आमने सामने होने का आभास पा लेते हैं| परन्तु इस सब से बच्चों का स्क्रीन समय बढ़ रहा है| बाल्यचिकित्सकों की अमेरिकी अकादमी के अनुसार बच्चों का दैनिक स्क्रीन समय दो घंटे से अधिक नहीं होना चाहिए| सभी समझदार है इस लिए मुझे इस बाबत अपने सुझाब आप पर थोपने की जरूरत नहीं है|
बड़ों के लिए सही स्क्रीन समय को लेकर कोई सुनिश्चित राय वैज्ञानिकों और चिकित्सकों के पास नहीं है परन्तु हर घड़ी में कुछ पल का अल्पविराम आवश्यक माना जाता है और लगातार एक प्रहर से अधिक स्क्रीन समय नहीं होना चाहिए| क्योंकि जीवन की अन्य आवश्यकताओं पर भी ध्यान देना है तो काम, मनोरंजन और गप्पबाजी मिलाकर भी यह समय बारह घंटे से अधिक का तो नहीं होना चाहिए|
वैज्ञानिकता से हटकर भी बात करते हैं| हमारे वीडियो द्वि-आयामी होते हैं| हो सकता है की जल्दी ही त्रि-आयामी वीडियो भी हमारे सामने हों| परन्तु वीडियो की यह दुनिया आभासी है| आप वास्तव में एक दूसरे के साथ नहीं है| यह आभासी दुनिया हमें आसपास होने का सुखद आभास तो दे रही है परन्तु जल्द हो हमारी स्वस्थ्य आँखों के अतिरिक्त भी बहुत कुछ छीन सकती है जैसे महीनों बाद किसी समारोह में एक साथ मिलने जुलने की बहुत बड़ी ख़ुशी|
ऐश्वर्य मोहन गहराना
नए ब्लॉग पोस्ट की अद्यतन सूचना के लिए t.me/gahrana पर जाएँ या ईमेल अनुसरण करें:

Enter your email address to follow this blog and receive notifications of new posts by email.