आरक्षण !!!


सवर्ण होने के बाद भी आरक्षण का समर्थन करने के कारण मुझे कई बार मित्रों और परिवारीजनों से बहुत कुछ सुनने के लिए मिलता रहा है| बहुतों को लगता है भारतीय प्रशानिक व्यवस्था में उनका न होना ही व्यवस्था के जर्जर होने की सबसे बड़ी वजह है| मण्डल रिपोर्ट लागू हुए अभी बाईस वर्ष हुए हैं और आज के समय में मलाईदार पदों पर आसीन लोग मण्डल से पहले अपनी निठल्ली नियुक्तियां पा चुके थे| आरक्षण विरोध का स्वर उठाने वाले अधिकतर सवर्ण मित्रों का योग्यता स्तर अधिकतर उस संभावित स्तर से काफी नीचे होता है जिसपर मण्डल न होने पर नियुक्तियां होने की संभावना बनती|

खैर, यह तो आज की बात है मगर मेरा आरक्षण समर्थन मण्डल लागू होते समय से बना हुआ है| कारण?

उस समय मुझे अपने भविष्य का चयन करना था और मैं आकलन में लगा था| मण्डल से पहले के उस समय में सरकारी नौकरी के दबाब में स्नातक के बाद सवर्ण युवा औसतन तीन साल तैयारी में लगा देते थे| उसके बाद तीन साल या तो उस भेंट का कर्जा उतारने में लग जाता था जो नौकरी के लिए उन्होंने दी थी या फिर छोटा मोटा व्यवसाय ज़माने में| कुल मिला कर सवर्ण युवा की आय स्नातक होने के छः वर्ष बाद ही वास्तविक आय लेगर आते थे| आज भी जो सवर्ण युवा सरकारी नौकरी के लिए तैयारी रहे हैं, उनको औसतन इतना ही समय लगता है| दूसरा मुझे यह समझ आ गया था कि सरकारी नौकरी पढाई से नहीं रिश्वत से प्राप्त होती है जो देना अधिकांश योग्य युवाओं के बस की बात न थी और न है| जब मण्डल आरक्षण आया तो मुझे दो संतोष हुए:

  • पहला, अब घर में सरकारी नौकरी का दबाब कम हो जायेगा (मेरे पिता का विशवास था कि अगर वो सरकारी नौकर न होते तो अधिक तरक्की करते क्योंकि सरकारी नौकरी में काम से कम; समय, भाई – भतीजावाद और धनबल की जय अधिक होती है|)
  • दूसरा, सरकार में रिश्वत देकर आने वाले अतिअल्पज्ञानी सवर्णों के साथ कुछ नहीं तो अल्पज्ञानी पिछड़े और अन्य तो आयेंगे तो सरकारी व्यवस्था का स्टार सुधरेगा|

वर्तमान में अतिचर्चित व्यापम घटनाक्रम सर्वज्ञात सत्य का उद्घाटन करता है कि सामान्य कोटे में नौकरियों बाजार में बिकतीं हैं, योग्यता पर नहीं मिलतीं| मेरे एक मित्र जो सोशल मीडिया पर पूछा करते थे कि क्या आप आरक्षण से शिक्षा नौकरी पाए हुए चिकित्सक को दिखायेंगे; मैं आजकल उनसे पूछता हूँ व्यापम वाले पर चलेंगे या आरक्षण वाले पर?

मैं कायस्थ होने के नाते सरकारी नौकरियों में कायस्थों के घटते प्रतिशत पर चिंता उठते देखता हूँ; ज्यादातर इसका दोष आरक्षण को दे दिया जाता है, जो अर्ध सत्य है| देश की आजादी के समय में जिन मुख्या सवर्ण जातियों का प्रशानिक पदों पर कब्ज़ा था उनका पारस्परिक अध्ययन किया जा सकता है| सामान्य पदों पर नियुक्तियां जातिवाद, भाई – भतीजावाद, धनबल और ज्ञानबल के आधार पर होती है, इस सत्य का ध्यान रखना होगा|

क्या आरक्षण जायज है:

अगर आप यह कहना चाहते हैं कि आरक्षण का अर्थ पुरखों के पाप की सजा आपको दिया जाना है तो आप गलत हैं| सवर्ण पुरखों ने शूद्रों के लिए आधा भी नहीं छोड़ा था, सवर्ण आरक्षण के बाद भी नौकरियां पाते हैं जो आज भी जनसँख्या अनुपात में कम तो कतई नहीं दी जा रही| महिला आरक्षण का तो लगभग पूरा कोटा सवर्ण के नाम खप जा रहा है| आज आरक्षण में एक कमी जरूर है कि आरक्षित वर्ग का क्रीमीलेयर आरक्षण का लाभ उठा रहा है तो मुझे लगता है कि आरक्षित वर्ग के वंचित तबके को जागरूक करना होगा कि भाई आगे बढ़ो, जो लाभ मिल रहा है उसे आगे बढ़कर लो|

निर्धन आरक्षण:

निर्धन आरक्षण की मांग करने वाला तबका यह भूल जाता है कि संख्या में निर्धन आरक्षित वर्ग में बहुत ज्यादा हैं और अगर यह मिल भी गया तो इसमें धन – बल और फ़र्जी बाड़ा व्यापम से भी अधिक होगा|

अंत में इतना ही कहूँगा, आरक्षण का लाभ उसी दिन है जब आरक्षित वर्ग में हम ही प्रतियोगिता पैदा कर पायें जितनी सवर्ण में महसूस करते हैं| यह काम सवर्ण को ही करना होगा, जैसे उन्होंने आरक्षण के समर्थन में किया था|