बचकाना बिचौलिया


पिछली पोस्ट बंद होते बैंक में मैंने लिखा था:  बैंक का बिचौलियापन पूँजी बाजार से ख़त्म होना चाहिए| इसके लिए निवेशक के रूप में आमजन को जागरूक होना होगा|

बैंक उद्योगीकरण के समय की पूंजीवादी जरूरत थी जो जल्द ही एक धुर-पूंजीवादी विचार में बदल गया| बैंकों ने आमजन का पैसा लेकर उद्योगपति को देना शुरू किया| लुटे पिटे आमजन के लिए धन कमाने और खुद को साहूकार समझने का यह सुहाना मौका था| परन्तु जल्द ही बैंक पूंजीपति के हाथ के खिलौने बन गए| पूंजीपति से मिले ब्याज और बैंक के खर्च से बचा ख़ुचा धन ब्याज के नाम पर जमाकर्ता को मिलने लगा| आज भी वास्तव में पूंजीपति ही ब्याज के दर तय करता है – भले ही अब यह लोबिंग के माध्यम से किया जाता है| बैंक के पास तो उधार देने के भी भारी लक्ष्य हैं कि योग्य को भी वह उधार दे देते हैं| बैंक का लिखित उद्देश्य उस समय खंडित हो जाता है जब जरूरतमंद किसान नीलाम हो जाता है और पूंजीपति ८५ प्रतिशत का माफ़ीनामा ले लेता है|

इस्लाम स्पष्टतः और हिन्दू आदि धर्म किसी न किसी रूप में ब्याज आधारित तंत्र के विरोधी रहे हैं| क्योंकि ब्याज लेना देना वास्तव में धन का कोई उत्पादक प्रयोग नहीं करता| धन का वास्तविक प्रयोग उसके उत्पादक प्रयोग में है| बैंक खुद भले ही उत्पादक कार्यों के लिए धन देते हैं परन्तु उनका उत्पादन से कोई सम्बन्ध नहीं होता| ब्याज न निवेशक को पूरा परिणाम देता हैं न उसकी बौद्धिक क्षमता का पूरा प्रयोग करता है| धार्मिक नियमों के ऊपर उठकर देखें तो बैंकों में एक सीमा से अधिक निवेशक और अर्थव्यवस्था के लिए हानिकारक हैं| बैंक पूँजी की समुच्चय और समन्वय करने में भी विफल रहे हैं| वास्तव बैंक के पास अपने धन का समुचित निवेश करने की कोई उचित कुशलता भी नहीं होती| यही कारण है कि बैंक असफल होते रहते हैं|

बंद होते बैंक


मैं आजतक नहीं जानता कि वास्तव में बैंक होते क्यों हैं?

पहले भारत या पूरे एशिया में बैंक नहीं थे तब आम जनता की आवागमन और व्यापारिक जरूरत के लिए हवाला तंत्र था| यह वास्तव में पेमेंट बैंक सिस्टम है जिसे पश्चिमी बैंक प्रणाली के हित के लिए अवैध, गैरकानूनी और आपराधिक बनाकर पेश किया गया| जबकि इसे उसी प्रकार विनियमित किया जा सकता था, जैसे आज पेमेंट बैंक को किया जाता है| हर शहर और गाँव में कर्जदाता साहूकार भी थे जिनके ब्याज के कड़वे किस्से महशूर किये गए थे| सहूकारियां और हवाला आज भी है और कानूनन मना भी है|

बैंकतंत्र का मूल उद्देश्य बड़े समूह से धन बटोर कर उद्योग आदि में प्रयोग करने के लिए देना था|  यह एक उलट-साहूकारी है| आलोचक इसे समाजवाद से धन जुटाकर पूंजीवाद को देना भी कहते हैं| आज इसमें साहूकार की सूदखोरी, हवाला की हौल और पूंजीवाद की लम्पटता है| बाद में जब पूंजीपति असफल होता तो बैंक का बाजा बज जाता और पूंजीपति सो जाता| बहुत बार यह धोखाधड़ी का मामला भी होता|

आखिर बैंक क्यों असफल होते हैं?

भारत में बैंक बंद होना कोई नया घटनाक्रम नहीं हैं| आरम्भ में अधिकतर बैंक पूंजीपतियों ने समाज में मौजूद धन को ब्याज के बदले इकठ्ठा करकर अपने व्यवसाय के लिए प्रयोग करने के लिए खोले थे| इस तंत्र में कमी थी कि आमजन के लिए पैसा लगाना सरल था निकलना कठिन| इसके बाद बैंक का राष्ट्रियकरण हुआ| हालत बदले और लगा कि धोखेबाज रोक लिए जायेंगे| परन्तु छोटे बैंक, साहूकार आदि बने रहे| बड़े बैंक भी कोई नया व्यासायिक नमूना नहीं बना पाए| पूंजीपति बैंक का लाभ लेते लूटते रहे| हाल का दिवाला शोधन कानून भी कोई बहुत सफल नहीं दिखाई देता| हाल का पंजाब महाराष्ट्र सहकारी बैंक भी सामाजिक पूँजी पर पूंजीवादी कुदृष्टि की पुरानी कथा है|

फिलहाल इस सब का कोई इलाज नहीं दिखाई देता| सरकारी नीतियाँ जब तक पेमेंट बैंक, बचत बैंक और साहूकारी और निवेश व्यवस्था को अलग नहीं करेंगी यह सब चलेगा| परन्तु यह सब करना कोई सस्ता सौदा भी तो नहीं है|

आम जन को अपना ध्यान खुद रखना होगा| बैंक का बिचौलियापन पूँजी बाजार से ख़त्म होना चाहिए| इसके लिए निवेशक के रूप में आमजन को जागरूक होना होगा|

माल्या चले परदेश


माल्या चले गए परदेश| अच्छे समय के राजा; अच्छे समय के आते तक रुक नहीं सके| मैं दुःख नहीं करता| पुरुष – प्रकृति के अपने नियम हैं| पूर्व जन्म – जन्मान्तर के बहुत से पुण्य होंगे; काल के प्रताप से आनंद को प्राप्त किया और भूलोक में इन्द्रासन पर विराजमान हुए| जानते हैं यजमान, अंत में आत्मा ही जायेगी; न ऋण जायेगा, न सम्पत्ति| नश्वर संसार में सब मिथ्या है, मिथ है और मदिरा है|

बैंक माया का मतिभ्रम हैं, संसार चक्र का चक्रव्यूह है| सर्वधर्म विधान है; महाजनी, राहजनी, आगजनी सब धर्मसम्मत नहीं माने गए हैं| बैंक पश्चिमी संस्कृति का दुष्फल है| माल्या ने भारत में इस विधर्मी दुष्ट संस्कृति को क्षीण किया|

प्रेमचंद की कहानी “सवा सेर गेंहू” विप्र कुर्मी किसान को पीढ़ी – दर – पीढ़ी गुलाम बनाता है| आज बैंक किसान को गुलाम बनाता है| किसान जिसका न ब्याज माफ़ होता है न मूलधन; पुलिस के डंडे और अदालत का दंड खाता है| बैंक किसान की हत्या करता है; आत्महत्या करता है; चरित्रहत्या करता है, आत्मविश्वासहत्या करता है, सांस्कृतिक हत्या करता है| माफ़ का कागज आते आते कचहरी जाते जाते तक रोज किसान के जूते और आत्मा घिस जाते हैं, मगर कर्जा नहीं घिसता|

[जिन क्षेत्रों में बैंक नहीं है, वह अपनी गलती से नहीं हैं और किसान की अवैध सूदखोर का शिकार बनने के लिए छोड़ रहीं हैं|]

सबसे बड़ा पूंजीवादी पाप बैंक करते हैं, जब अपने कर्ज के पैसे देश के करोंड़ों किसानों को बांटकर व्यापक जोखिम वितरण नहीं करकर मुट्ठीभर पूंजीपति को सारा कर्ज देता है| किसान की गिरवी का मोल नहीं होता और पूंजीपति की गिरवी का मोल- भाव नहीं होता| जब बैंक गलत तरीके से पैसा देते हैं; तो उन्हें उस पैसे पर कोई अधिकार नहीं होना चाहिए|

माल्या जी कुबेर धर्मभाई हैं, यजमान| कुबेर को देवेन्द्र और माल्या को नरेंद्र का वरदहस्त प्राप्त हो| जितना धन पूंजीपति का माफ़ हो उतना किसान का भी हो जाये|

इति माल्या खण्ड, पूंजीपुराण||