हँसते इश्कियाते मुस्कुराते

मुद्दा तो यही है न, इश्क़ और हँसी पर लिखना है| वो भी अपने “बैटर हाफ” वाला इश्क़; यानि, वो इश्क़ जो होता है तो कोई बताता नहीं, नहीं होता तो सब बताते हैं| तो भाई, बैटर हाफ के साथ, इश्क़ की ईमानदार बात उन्हीं दिनों सो सकती है जब वो वास्तव में बैटर हाफ न हों|

दरअसल, बात उन दिनों की है जब न इश्क़ था, न इश्क़ की बातें, न शादी थी, न बेग़म| घर वाले जान के पीछे पड़े थे| और सारे नाते रिश्तेदार सब साजिश में शमिल थे| कहा गया, मिल लो, बाद में चाहो तो मना कर देना|

लाला की नौकरी में छुट्टी मिलना भी बोनस मिलने की तरह होता है| दोनों तरफ से कहा गया, हम आते हैं किसी इतवार| जिस शहर में मैं नौकरी करता था वहाँ, रहने का ठिकाना सब गड़बड़ था| तो मुलाकत के लिए कॉफ़ी हाउस तय हुआ| साथ में बता दिया गया कि लड़की हमारी चाय कॉफ़ी तक नहीं पीती, तो उसके लिए पानी, दूध या जूस का इंतज़ाम किया जाये| पहली बार कोई आ रहा था मुझे से मिलने और वो भी शिकार फांसने; उस पर खातिरदारी के भी नखरे उठाने थे|

दुआ – सलाम हाय – हेलो के बाद आप बैठिये आप बैठिये हुआ| मेजबानी करने की जिम्मेदारी मेरी थी| सेल्फ सर्विस कॉफ़ी हाउस में मैं सबके लिए पानी और कॉफ़ी लाकर रखने लगा| मेरी होने वाली सासू माँ अपनी बिटिया जी के चाय-कॉफ़ी तक को हाथ न लगाने के किस्से बता बता कर माहौल बनाने की कोशिश कर रहीं थी| मेरे पिताजी डर कर बैठे थे कि कहीं ये लड़की शादी के बाद घर में चाय – कॉफ़ी  पीना भी न बंद करा दे| सबके लिए कॉफ़ी लाते लाते मुझे डर लगा कि कहीं घर में नुक्सानदेय काली – पीली बोतलें न आने लगें| सर्विस काउंटर पर सेल्स गर्ल ने चुहल की, सर, शादी के बाद तो आपको बराबर के ठेके वाला ड्रिंक ही पीना पड़ा करेगा|

जब में होने वाली पत्नी जी के लिए मौसमी का ताजा जूस लेकर सर्विस काउंटर से वापिस मुड़ा, तो मेरे पिताजी मुस्करा रहे थे, ससुर साहब कॉफ़ी हाउस का मीनू उल्टा ही पढ़ रहे थे, उनका भाई मोबाइल में स्नेक खेल रहा था, मेरी बहन अपनी होने वाली भाभीजी को अजीब से देख रही थी| सासू माँ, अपनी साड़ी के पल्लू से वो कॉफ़ी साफ कर रहीं थी जो अभी तक नहीं गिरी थी|

मेरी सीट हाथ से जा चुकी थी, मेरी पसंदीदा कॉफ़ी हाथ से जा चुकी थी| उस दिन इश्क़ तो हुआ, समय की नज़ाकत देखकर हँसी बाद के लिए टाल दी गई|

मेरी सासू माँ आज भी कायम है कि उनकी बेटी चाय – कॉफ़ी नहीं पीती| ससुर साहब को लगता है शादी के बाद लड़कियों में कुछ परिवर्तन हो जाता है| पत्नी के ससुराल वाले जब तब इस किस्से को लेकर हम दौनों पर हँसते हैं|

मैं रोज पत्नी के लिए भी कभी कभी चाय – कॉफ़ी बनाता हूँ और मुस्कराहट के साथ सर्वे करता हूँ| पत्नी जी आज भी मेरे साथ हँस हँस कर दावा रखतीं हैं कि वो चाय कॉफ़ी नहीं पीतीं|

Share #LoveAndLaughter with the world and make it a better and happier place.

This post is a part of #LoveAndLaughter activity at BlogAdda in association with Caratlane

धर्मपत्नी

सोशल मीडिया की सबसे बड़ी खूबी है कि युवा पीढ़ी अपनी अज्ञानता और अयोग्यता को भी हँसी – ख़ुशी के साथ परोस देती है और शेयर/फॉरवर्ड भी करती है|

अभी हाल में एक प्रश्न मुझतक एक बार फिर पहुंचा:

अगर धर्मपिता, धर्ममाता और धर्मभाई का अर्थ असली पिता, माता या भाई से नहीं तो फिर धर्मपत्नी का अर्थ असली पत्नी से क्यों है?

पिता, माता, पुत्री, पुत्र, भाई और बहन यह सब वह सम्बन्ध हैं जिन्हें हम जन्म से लेकर आते हैं और भले ही हमें उन रिश्तों के बारे में किसी भी कारण जानकारी न हो मगर यह सभी सम्बन्ध मौजूद रहते है और इनका वैज्ञानिक प्रमाण भी दिया जा सकता है| जैसे बिछुड़ा भाई, हमेशा हमेशा भाई ही रहेगा; चाहे यह बिछुड़ना मानसिक (मन – मुटाव), भौतिक (कुम्भ मेले में बिछुड़ना) या आत्मिक (मृत्यु) कुछ भी हो| इन सम्बन्धों में असली या नकली नहीं होता, भाषा की दृष्टि से इन्हें “सगा” सम्बन्ध कहा जा सकता है| यह सम्बन्ध भौतिक और वैज्ञानिक सत्य हैं| भारतीय भाषाओँ के सम्बन्ध में सगे के अतिरिक्त अन्य सम्बन्ध चचेरे ममेरे फुफेरे मौसेरे भी हैं, जिन्हें अंग्रेजी में कजिन कहते हैं|

धर्मपिता, धर्ममाता, धर्मपुत्र, धर्मपुत्री, धर्मभाई, धर्मबहन आदि रिश्ते इस जन्म में बनते है| ऐसा नहीं है कि हमने किसी को पकड़ा और उसे भाई बोल दिया तो वह धर्म भाई हो गया| इस प्रकार तो शहर के सभी रिक्शेवाले और गोलगप्पे वाले सबके धर्मभाई हो जायेंगे|

धर्म सम्बन्ध में धर्म का अर्थ कि किसी धार्मिक या विधिक समारोह से नहीं है| गोद लेना एक धार्मिक और साथ ही विधिक समरोह है मगर इस से बनने वाला रिश्ता “सगा” होगा; इस से परिवार में पुत्र या पुत्री का प्रवेश होता है न कि धर्मपुत्र या धर्मपुत्री का| इसी प्रकार, विवाह के धार्मिक या विधिक समारोह से परिवार में पत्नी और पुत्रवधु का प्रवेश होता है न कि धर्मपत्नी या धर्मपुत्रवधु का|

धर्मसम्बन्ध में धर्म का अर्थ कर्तव्य से है, जो धर्म शब्द के मूल अर्थों में से एक है| वह व्यक्ति जो पिता का धर्म निभाए वह धर्मपिता; वह व्यक्ति जो माता का धर्म निभाए वह धर्ममाता; वह व्यक्ति जो पुत्र का धर्म निभाए वह धर्मपुत्र; वह व्यक्ति जो पुत्री का धर्म निभाए वह धर्मपुत्र; वह व्यक्ति जो भाई का धर्म निभाए वह धर्मभाई; वह व्यक्ति जो बहन का धर्म निभाए वह धर्मबहन; वह व्यक्ति जो पत्नी का धर्म निभाए वह धर्मपत्नी; और वह व्यक्ति जो पति का धर्म निभाए वह धर्मपत्नी| “धर्मपति” नहीं सुना शायद आपने; और इसके न सुनने में ही “धर्मपत्नी” का भाव, अर्थ और दुर्भावना छिपी हुई है| पहले इस बात से सहमत हो लें कि धर्मपत्नी है तो धर्मपति भी होगा ही| मगर “धर्मपति” शब्द प्रचलन में नहीं है|

प्रायः धर्मपत्नी शब्द का प्रयोग पत्नी के समक्ष यह कहने का प्रचलित तरीका है कि उसे पत्नी से बढ़कर होना चाहिए और पत्नी के साथ साथ धर्मपत्नी भी बनना चाहिए| अर्थात सभी पत्नी के कर्तव्यों का पालन करना चाहिए| दुखद यह है कि धर्मपत्नी, पत्नी, उपपत्नी, रक्षिता और प्रेमिका के रूप में पति के साथ रहने वाली स्त्रिओं को धर्मपत्नी बनने का दबाब रहा है| जब पति अपनी पत्नी को धर्मपत्नी कहता है तो वो अपने निजी संबंधों के अच्छे होने के “निर्लज्ज” सार्वजानिक घोषणा करता है, जो मेरे विचार से पति – पत्नी आवश्यक कतई नहीं है| ऐसा इसलिए कि पति कभी भी अपने धर्मपति होने का दावा करते नहीं देखे जाते|

पत्नी के लिए धर्मपत्नी और अर्धांगिनी शब्द का प्रयोग मैं अनुचित हैं क्योंकि धर्मपति और अर्धंगना शब्द भाषा में मान्य नहीं हैं| अंग्रेजी का spouse और हिंदी का जीवनसाथी, पति पत्नी दोनों के लिए अधिक उचित शब्द हैं|

मोदी और विवाह

नरेन्द्र मोदी के विवाह के बारे में जबरन दबाये और उठाये जाते विवाद से केवल दो बातें सामने आतीं है:

१.      भारतीय समाज में बाल विवाह न केवल दो व्यक्तिओं बल्कि तो परिवारों को कई दशक का दुःख देने वाली बुराई है जिसे समाप्त होना चाहिए|

२.      धार्मिक अतिवादिता न तो किसी को तलाक लेने देती है न ही इतनी हिम्मत ही देती है कि वह खुल कर अपने विवाह और उसके असफल होने की बात स्वीकार कर सके| असफल विवाह बुरी याद की तरह ढोए जाते हैं या उन्हें धोये जाने का यत्न किया जाना होता है|

भारतीय समाज में विवाह एक सामाजिक सम्बन्ध है और पति –पत्नी का आपसी सम्बन्ध उनका निजी मसला है| यह एक गहन अंतर है|

हम नरेन्द्र मोदी से यह तो पूछ सकते हैं कि उनकी पत्नी का नाम क्या है, हम यह पूछ सकते हैं कि पहले किसी दस्तावेज (एफिडेविट) में उन्होंने पत्नी का नाम क्यों नहीं बताया; हम यह पूछ सकते हैं कि इस बार उन्होंने नाम क्यों बताया, हम हम यह भी पूछ सकते हैं कि कौन सा दस्तावेज झूठ है|

हम पति –पत्नी के आपसी सम्बन्ध और उसकी सफलता – असफलता के बारे में नहीं पूछ सकते|

हम मोदी को भगौड़ा इस लिए नहीं कह सकते कि उनका विवाह असफल रहा या नगण्य रहा| उन्हें विवाह से भगौड़ा कह सकने का अधिकार अगर किसी को है तो उनकी पत्नी को है, अथवा पत्नी की शिकायत पर उनके दोनों परिवारों और न्यायलय को है|

हम मोदी को भगौड़ा इसलिए मात्र कह सकते है कि वो पत्नी होने का सच बताने से भागते रहे| पत्नी का नाम न बताना झूठ नहीं है बस वो सच से भागना या सच छुपाना है|

साथ ही हम भारतीय नारी की अवधारणा पर कितना भी गर्व करें, क्या हमें यह नहीं सोचना चाहिए कि भारतीय परित्यक्ता स्त्रिओं के पास हमें विकल्प ही क्या छोड़ा है?

नोट: पिछले वर्ष आया नया हिन्दू विवाह कानून हिन्दू पुरुष को तलाक लेने की हिम्मत करने की अनुमति नहीं देता| हिन्दू पुरुष के लिए पत्नी त्याग पत्नी को तलक देने से अधिक सस्ता सुन्दर तरीका बन गया है|