पंचकन्या

पंचकन्या पढ़ते समय एक ताजगी का अहसास होता है|

भारतीय समाज में स्त्री, स्वतंत्र विचार, स्त्री पुरुष सम्बन्ध, सामाजिक संवेदनाएं आदि यदि किसी और समकालीन उपन्यास में आती है तो लगता है कि शब्दों के हेर – फेर के साथ वही पुराना घिसा – पिटा लिख कर परोस दिया गया है| कथाकार ऐसे में अक्सर कथानक पर हावी हो जाते हैं पात्र घुटकर मरने लगते है|

पंचकन्या, सामयिक प्रकाशन, जटवाडा दरियागंज नई दिल्ली -110002 कीमत 395 रुपए

सामयिक प्रकाशन, जटवाडा दरियागंज नई दिल्ली -110002 कीमत 395 रुपए

यहाँ पर मनीषा कुलश्रेष्ठ ने किसी भी मापदंड के लिए एक अलग पैमाना रख लिया है; प्रदीप भट्टाचार्य का लेख पंचकन्या: स्त्री सारगर्भिता केवल इस उपन्यास का सन्दर्भ आलेख नहीं है वरन एक प्रकार से पात्रों के लिए स्वतंत्रता का वितान है, जहाँ पात्र पाने अस्तित्व में सांस ले पा रहे हैं| मैंने इस सन्दर्भ आलेख को पहले पढ़ लिया था इसलिए जहाँ भी सन्दर्भ आया है मुझे ऊबाऊ लगा, मगर यदि आप सन्दर्भ आलेख पहले नहीं पढ़ते तो आपके लिए सरलता और सहजता वैसे ही बनी रहती है जैसे पात्रों के जीवन में है| उपन्यास की विशेष बात है, पात्रों के जीवन में जहाँ कहीं भी असहजता, कठिनाऊ, उबाऊपन, घुटन या दुःख है तो वो बस है| पात्र अपने आप को उसमें नहीं मार रहे बल्कि सहजता है कि परिस्तिथि को सामान्यतः जीते हुए उस से उबर रहे है| कोई भी पात्र “लार्जर दैन लाइफ” भी नहीं है| उपन्यास भारत की प्राचीनता, अर्वाचीनता, आधुनिकता, योग, तंत्र, मन्त्र, धर्म, जाति, स्थान, शास्त्रीय नृत्य, लोक नृत्य, सबको जीते हुए समरसता से आगे बढ़ता है|

उपन्यास स्त्रियों को केंद्र में रख कर लिखा गया है मगर उस पर फेमिनिज्म हावी नहीं है| उपन्यास की भूमिका में मनीषा कुलश्रेष्ठ ने लिखा है कि वह फेमिनिज़्म की जगह एलिस वॉकर का दिया शब्द ‘वुमेनिज़्म’ अपने मन के ज्यादा करीब पाती हैं| इसमें स्त्रियोचित मुलायमियत है| यह सोच मूल पंचकन्याओं के अस्तित्व की भी सही व्याख्या है और यह भावना अपने नारी होने का उत्सव मनाती है| स्त्री होने के उत्सव में पुरुष सहभागी है और अपने पुरुष होने के उत्सव के लिए स्त्री की सहभागिता के साथ स्वतंत्र है| यहाँ फेमिनिज्म की तरह प्रतिक्रियावादी पुरुष – विरोध नहीं है| स्त्री – पुरुष को दो ध्रुव मानने का दबाब पाठक पर नहीं डाला गया है| इस कारण उपन्यास स्त्री  – पुरुष दोनों के लिए समझने में सरल और सहज है|

उपन्यास अलग अलग स्त्रियों की नितांत ही अलग गाथा है जिसमें देश काल लगभग समान हैं, परन्तु मानव देशकाल में नहीं बंधता, भावनाओं में बंधता है जो स्त्री – पुरुष के सामान्य अंतर में ही भिन्न होती है| उपन्यास की स्त्रियाँ प्रेम और संबंधों को महत्व देते हुए उनकी तलाश कर रहीं हैं और उस तलाश को सरलता से जी रहीं हैं| पुरुष उनको सरलता से बिना पूर्वाग्रह के समझ रहे है जैसा सामान्य जीवन में सामान्य पुरुष करते हैं|

“कन्या का अर्थ पारंपरिक ‘वर्जिनिटी’ से कतई नहीं है, अकेले होने और उसकी चुनौतियों का सामना करने से है|”

उपन्यास कन्या के इसी शास्वत जीवन को उकेरता है जिसे यदा कदा आधुनिकता का भूत, स्वच्छंदता, परंपरा विरोधी, आदि कहकर नकारा जा रहा है|

अहिल्या द्रौपदी कुन्ती तारा मन्दोदरी तथा

पंचकन्या स्वरानित्यम महापातका नाशका