लूज़र कहीं का

भले ही यह किताब २०१३ में प्रकाशित हुई मगर मैंने इसी साल पुस्तक मेले में इसे खरीदा|

कथानक अंत से लगभग कुछ पहले तक गठीला है मगर अचानक “कहानी ख़त्म होने के बाद” जैसा कुछ आ जाता है और पाठक के हाथ इस कहानी के दुसरे भाग “गेनर कहीं का” (जो अलिखित होने के कारण अप्रकाशित है) के कुछ अंतिम पन्ने हाथ आ जाते हैं| अगर आप इस कहानी को पढ़े तो अंतिम तो पृष्ठ फाड़ कर फैंक दें और दो चार महीने के बाद किसी पुस्तकालय से मांग कर पढ़ लें| इन दो पृष्ठों के साथ इस किताब की कीमत १२५ रुपये कुछ ज्यादा है और इनके बगैर कम|

यह पैक्स की कहानी है जो “साला” बिहारी है और पिछली शताब्दी के अंतिम दशक में मगध एक्सप्रेस टाइप किसी ट्रेन से जीवन भर की पढाई करने दिल्ली आया है| जिसके पास “जाओ जीत लो दुनिया का” आदेश है| विद्यार्थ पलायन की भारतीय विडंबना इस कथा का विषय न होकर भी एक गंभीर प्रश्न की तरह प्रस्तुत है| दुनिया जीतने का लक्ष्य हमेशा ब्याह के बाजार में उतरने तक हासिल करना होता है जो कथानायक और अन्य पात्रों का सबसे बड़ा दबाव है|

अगर आपने दिल्ली में यूपी – बिहार बनाम हरियाणवी – पंजाबी द्वन्द अपने छात्र जीवन में महसूस किया है तो आप इस पुस्तक से जुड़ा महसूस करेंगे| कुछ स्थानों पर दो – तीन बार की लिखत महसूस होती है| गंभीर पाठकों को पुस्तक में बिहारी पुट के ऊपर चढ़ाया गया बीबीसी हिंदी तड़का भी कुछ जगह महसूस हो सकता है, यह पंकज दुबे के लिए दुविधा और चुनौती है| दरअसल पुस्तक को आम हिंदी पाठक के लिए सम्पादित किया गया है जिससे भाषाई प्रमाणिकता में कमी आती है और महानगरीय पठनीयता में शायद वृद्धि होती है| पुस्तक को दोबारा पढ़ते समय, आपको चेतन भगत का बाजारवादी तड़का महसूस होने लगता है|

भले ही पुस्तक के पीछे इसे हास्य कथा कहा गया हो, मगर यह साधारण शैली में लिखा गया सामाजिक व्यंग है जो समकालीन दिल्ली पर हलके तीखे कटाक्ष करता है और अगर आपको वर्तमान दिल्ली का मानस समझना है तो इसे पढ़ा जाना चाहिए| इसके साधारण से कथानक की गंभीर समाजशास्त्रिय विवेचना की पूरी संभावनाएं है, यद्यपि साहित्यिक चश्मे से यह किताब कुछ गंभीर विवेचन नहीं देती|

अगर आप खुद को साधारण हिंदी साहित्य से जोड़ते है तो इसे जरूर पढ़ें|

Advertisements

जोहरीपुर का छूट जाना

“इश्क में शहर होना” कम से कम दिल्ली में हर हिंदी प्रेमी, साहित्यप्रेमी और पुस्तकप्रेमी की जुबान पर है| पुस्तक बिक रही है, लप्रेक धूम मचा रहा है| मगर पुस्तक पढ़ने के क्रम में मुझे दिल्ली का एक गांव याद आ रहा है| जी, यह भजनपुरा के पास का इलाका है जहाँ ब्रा बन रही है| मेरे अनुमान के मुताबिक वह इलाका जोहरीपुर है| जोहरीपुर इतना प्रतिबंधित सा है कि उसका नाम लेने में संकोच होता है| मैं भी तो नाम नहीं लेता| मैं सहमत हूँ, “ऐसा घबराया की नज़र बचाकर भागने जैसा लौटने लगा| कई दिनों बाद उन गलियों में दोबारा लौटकर गया| ब्रा भी बनता है पहली बार देखा|” [सन्दर्भ: – शहर का किताब बनना – इश्क में शहर होना – रवीश कुमार – सार्थक (राजकमल प्रकाशन)]

नहीं, मैं “इश्क में शहर होना” के लप्रेक को नहीं लपेट रहा हूँ| ब्रा का इश्क़ से सम्बन्ध भी तो नहीं है| ब्रा शरीर छुपाने की चीज है, और ब्रा खुद भी छिपा दिए जाने की| यहाँ पंकज दुबे को बीच में मत लाइए जो कहते हैं, “वहाँ उन्हें दुसरे कपड़ों के नीचे छुपाकर रखने का रिवाज है| पैंटी और ब्रा वहाँ कपड़ा नहीं बल्कि घर की इज्ज़त – आबरू से कम नहीं है|” [सन्दर्भ: – लूज़र कहीं का – पंकज दुबे – पेंगुइन प्रकाशन]

मैंने पूछा था कारीगर से जब दोनों चीजें बनाते हो तो ब्रा ही क्यूँ बोलते हो? बोला साहब, आपको तो पता है कि दूध की दुकान पर दही भी मिलता है, मगर आपने दही की दुकान कभी देखी है? दही से दाम आते हैं, मुनाफा दूध से आता है| दूसरी बात ये है साहब, जिस देश में औरत किनारे (हाशिया पढ़ सकते हैं|) पर हैं, वहाँ औरत के जरूरी कपड़े तो गटर में ही होंगे| कौन गटर का नाम लेगा? मैं उसे देखता रहा| मगर कुछ नहीं बोला| शायद वो नक़ल कर कर के बारहवीं पास हुआ था, मगर… चलिए छोड़ते हैं, अगर उसे बुद्धिजीवी कहूँगा तो… नजला हो जायेगा| [1]

जोहरीपुर – पूर्वी दिल्ली के पूर्व में एक छूट सा गया एक गाँव| लोनी से शायद सटा हुआ| मूल निवासी कम, भीड़ ज्यादा| बुलंदशहर और अलीगढ़ जिलों के गांवों से आने वाले ज्यादातर पिछड़े तबके के लोग| बहुत से लोग ब्रा के काम में लगे हैं| यहाँ कोई छिपाव नहीं है, कुछेक कारीगर, वापिस अपने गाँव में जाकर अपना छोटा सा काम डालते हैं और ट्रेन से तैयार माल दिल्ली के बड़े ब्रांड के पास आ जाता है|

मगर ज्यादातर कारीगर गांव – घर में नहीं बताते कि क्या काम कर रहे हैं| यह एक अछूत काम है| जोहरीपुर… नव – अछूतों की बस्ती है, जिसे पूर्वी दिल्ली ने भी गंदे नाले के पीछे छिपा दिया है|

[1] [जिन्हें दिलचस्पी हो तो उस समय ब्रा के मुकाबले दूसरे कपड़े का आल इण्डिया मार्किट अधिक से अधिक 22 – 25% करीब था, वो चार दिन पहनने वाला कपड़ा जो है| बाकी बातें इस ब्लॉग पोस्ट का हिस्सा नहीं हैं]