ब्लॉग: गहराना

मेरा चिट्ठा गहराना मेरी आत्म – अभिवयक्ति है, जिसमें मेरी सोच – प्रक्रिया और विचार – विमर्श के झलक मिलती है| मेरे हर्ष, शोक, आक्रोश, क्षोभ और अंतरदृष्टि का दर्पण बन कर यह चिट्ठा उभर रहा है| मेरे हृदय की बाल सुलभ कोमलता एवं चपलता इसका केंद्र – बिंदु है| साथ ही सामाजिक सरोकार, राजनैतिक अस्थिरता, सामयिक विषमतायें मेरे मस्तिष्क में उथल – पुथल मचा देने के बाद इस चिट्ठे में उभर आती है|

मेरे विचार बहते पानी की तरह परिवर्तनशील मगर अस्थायी नहीं हैं और निरंतर शुद्ध व् परिष्कृत होते रहते हैं| जब कभी भी किसी कारण से मेरे हृदय में स्पंदन उत्पन्न होता है तो मेरी अभिव्यक्ति काव्यात्मक हो सकती है|

जब कभी भी रोजगार से जुड़े कार्यों की अधिकता होती है तो मेरे लेखन में उसका प्रभाव स्पष्ट झलकता है| उस समय विधि सम्बन्धी आलेखों की प्रबलता होती है| यद्यपि निवेशक जागरूकता सम्बन्धी लेखन मुझे पसंद है|

हर बात को गहराई से समझने और लिखने के मेरे प्रयास के कारण ही मैंने इस चिट्ठे के बारे में उप – शीर्षक दिया है;

गहराई में डूब कर तैरने के लिए तैयार..

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s