जलता हुआ घर


जलता हुआ घर
याद दिलाता है
जब जलाए थे 
घर मेरे बंधुओं ने

हर्षित हुआ था मैं
ऋषि-शिशु का रुदन
श्रवण संगीत सा
लगा था मुझे

आज मेरी शिशु
चिर-शांत हुई
वह असह संगीत
चिल्लाते हुई

हे हनुमान!
क्षमा करना
तुम स्वयं को 

मैं स्वयं को|
समस्त स्वमेव स्वयं||

जलता हुआ घर&rdquo पर एक विचार;

DharmeshBohra को एक उत्तर दें जवाब रद्द करें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.