आसमान की ओर

आसमान की ओर जाते हुए हम क्या करते हैं? आसमान की ओर जाना, उड़ जाना मानव का सदियों पुराना सपना है| आज भी पहली बार उड़ पाना करोड़ों लोगों के लिए एक उदास सपने की तरह है| भारत में हर उड़ान आज भी किसी न किसी ऐसे शख्स को लिए जाती है जो आसमान की उड़ान का आदी न हुआ हो| बहुत से लोगों के लिए यह सपना अभी हक़ीकत नहीं बनता| जिनके लिए यह हक़ीकत हो जाता है उनके मिज़ाज बदले नज़र आते हैं|

हम सब सड़क पर चलते हुए साधारण होते हैं और एक बात कार में बैठकर अपने आप को औकात का बाप समझने लगते हैं| मैं अपनी साईकिल पर चलते हुए महसूस करता हूँ कि बिना हेलमेट चलने पर पीछे से आने वाली कारें अधिक हो- हल्ला करतीं हैं और उनके सवार एक साईकिल सवार कीड़े को मसल देना चाहते हैं| जबकि यही लोग ख़ुद पैदल चलते हैं तो अक्सर रवैया बदल लेते हैं| यह सब आसमान में उड़ने वालों पर भी होता है, मगर ट्रेनों की तरह उड़ाने भी बहुत अधिक नखरा दिल में पैदा करतीं| मगर फिर भी व्यवहार में ख़म आ जाना मानव चरित्र का लक्षण है|

सुबह की उड़ाने अक्सर हमें अधिक चिंतित करतीं हैं| एक दिन पहले से हमारी सोच उड़ना शुरु कर देती है, जो किसी भी लम्बी यात्रा में होता है| मगर हवाई यात्रा में समय पर पहुंचना बहुत मायने रखता है| हवाई यात्रा की ख़ुशी को सुरक्षा जांच अक्सर थोड़ा धरातल की ओर ले जाती है| आप एक दिन पहले से उल्टा हिसाब लगाना शुरू कर देते हैं| पौन घंटा पहले आपको दिए गए गेट पर पहुंचना होता है| उस से पहले सुरक्षा जांच की लम्बी होती जा रही कतारें| घरेलू उड़ानों में सुरक्षा जांच आज भी आपके पंद्रह मिनट आराम से ले लेती हैं| इस बीच लगभग हम सब सामान्य सुविधाओं का प्रयोग करना चाहते हैं| चेक-इन काउंटर पर आपको लगभग पंद्रह मिनट लगते हैं| वयस्त हवाई अड्डों पर डिपार्चर टर्मिनल में टेक्सी से उतरने के बाद लगभग पांच से पंद्रह मिनट लगते हैं| कुल मिलाकर वयस्त हवाई अड्डों पर आपको कम से कम दो घंटा पहले हवाईअड्डे पर पहुंचना होता है| घर से हवाईअड्डे की दूरी हम भारतीय अन्य सभी दूरियों की तरह घंटों में नापते ही हैं|

मन में अक्सर सुबह की उड़ान पकड़ने की चिंता रहती है| इस कारण नींद न आना और नींद आ जाने पर समय पर खुल न पाना चिंता का कारण बन जाता है|

आजकल वेब- चेकइन भी एक अलग पीड़ा है – करें या न करें| वेब – चेकइन में अक्सर पैसे से मिलने वाली सीटें हमें विंडो पर मुफ्त मिल जाती हैं| अक्सर आसमान में खाना पीना भी आसमान छूता है| तो घर के कुछ खाकर जाने की चिंता भी रहती ही है|

अगर आपकी उड़ान १००० किलोमीटर से कम दूरी की है तो क्या कहने| यह शानदार है कि आपको बोर होने का मौका नहीं मिलेगा और अगर आप उड़ान में कुछ काम जैसे – नींद लेना करना चाहते हैं तो भूल जाइएगा|

 

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s