मानव संसाधन विभाग की अनकही

मानव संसाधन विभाग को कंपनियों में सबसे अधिक उबाऊ माना जाता है और प्रायः उन्हें किसी सफलता का श्रेय नहीं मिलता| बहुत सी कंपनियां इस विभाग के काम को ठेके पर करवातीं हैं, मगर इससे लाभ शायद ही होता हो| यहाँ शांत मुद्रा में बैठे लोग ऐसे कारनामे करते हैं जो किसी बैलेंस शीट, प्रॉफिट लोस अकाउंट या एनुअल रिपोर्ट में नहीं आते| उन के जिक्र कंपनियों के कागजात में केवल खर्च के रूप में दर्ज होते हैं|

हरमिंदर सिंह का अपना ब्लॉग बेहद चर्चित और अपने खास मुद्दे पर शायद इकलौता हिंदी ब्लॉग है| हरमिंदर वृद्ध्ग्राम नाम से एक बेहतर ब्लॉग लिखते हैं| उनके ब्लॉग ने समय समय पर मीडिया और सामाजिक मीडिया में स्थान बनाया है| हरमिंदर सिंह ने मानव संसाधन से सम्बंधित पढाई – लिखाई के बाद मानव संसाधन विभाग में नौकरी भी की है और उस पर अब उपन्यास भी लिख दिया है| यह हरमिंदर का पहला उपन्यास है और विभागीय अनुभव का भरपूर लाभ उन्हें मिला है|

हरमिंदर सिंह अपनी शांत शैली में यह पूरा उपन्यास लिख गए हैं| अगर आप किसी कंपनी में नौकर रहे हैं तो आप इस शैली को पहचान पाएंगे| यूँ हरमिंदर हमेशा ही शांत लिखते हुए अपनी और पाठक की उत्तेजना पर काबू रखते हैं| उनके पात्र अपना क्रोध और प्रेम प्रदर्शित करते हुए लगभग शांत रहे हैं| कथानक में उपन्यासों जैसी उठापटक और गतिशीलता नहीं है| सारी कहनियाँ अलग अलग दिन की घटनाओं का जिक्र भर है, जो की उपन्यास के नाम से भी मालूम होता है| पूरा उपन्यास इन छोटी छोटी कहानियों से मिलकर साकार होता है| कब यह छोटी छोटी घटनाएँ मिलकर उपन्यास का रूप ले लेती हैं, पाठक को पता ही नहीं चलता|

पाठक को अंतिम दो अध्याय तक समझ नहीं आता कि कहानी शुरू कब हुई? कुछ पाठकों के लिए यह उबाऊ हो सकता है| आप पढ़ते पढ़ते मूल कहानी को ढूंढते रह जाते हैं| मगर इसकी खूबसूरती है, उपन्यास की छोटी छोटी कहानियों में छिपी मूल कहानी को लगभग दोबारा पढ़कर ढूँढना पड़ता है|

सूत्रधार मानव संसाधन विभाग में नया भर्ती हुआ है| स्वभावतः उसकी सोच में नौकरी और जीवन से जुड़े पहलू छाये रहते हैं| स्वभाव से गंभीर होते हुए कई बार वो दार्शनिक होते होते रह जाता है मगर पते की कई बातें करता है| उसकी छोड़ी हुई सूक्तियां उपन्यास में जगह जगह छितरी पड़ी हैं| विभाग की उबाऊ जिन्दगी को रंगते हुए कर्मचारी जीवन में आगे बढ़ रहे हैं| उनके बीच का हास्य, प्रेम, भावुकता, आदि नामालूम तरीके से आगे बढती हैं| लेखक उन भावनाओं की स्वाभाविक गंभीरता बरकरार रखने में कामयाब रहा है| अधिकतर उपन्यास अपने रसीले वर्णन में अपना औचित्य खो बैठते हैं| परन्तु इस उपन्यास की यह शांत शैली उनको वास्तविकता प्रदान करती है|

हमेशा चमत्कार की प्रतीक्षा करते हिंदी साहित्य जगत में इस उपन्यास को शायद कोई महत्व न दिया जाए| हो सकता है यह उपन्यास हिंदी की खेमेबाजी से बचकर दूर निकल जाए| उपन्यास की भाषा वर्तमान प्रचालन की रोजमर्रा वाली गंगा जमुनी हिंदी है| पंडिताऊ संस्कृतनिष्ठ होने का कोई आग्रह इसमें नहीं हैं| उपन्यास की गति का धीमा होना उसके पाठ में बाधा नहीं बनता बल्कि उचित समय पर समाप्त होकर उपन्यास पाठक को एक आकर्षण में बांध लेता है|

पुस्तक – एच. आर. डायरीज़ – मानव संसाधन विभाग की अनकही

लेखक – हरमिंदर सिंह

प्रकाशक – ओपन क्रेयोंस डॉट कॉम

प्रकाशन वर्ष – 2016

विधा – उपन्यास/कहानी

इस्ब्न – 978-93-52017-78-2

पृष्ठ संख्या – 180

मूल्य – 210 रूपये

This review is a part of the biggest Book Review Program for Indian Bloggers. Participate now to get free books!

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s