सहजीवन आनंद

वास्तविक दुनिया में लोग मोबाइल एप्लीकेशन के जरिये संकेत भाषा में बात नहीं करते; उनकी एक विकसित भाषा होती है| वास्तविक लोग हँसते, गाते, मुस्कराते, रोते और लड़ते – झगड़ते हैं| मगर यह बातें आज हमें अपने को याद दिलानी पड़तीं हैं|

राष्ट्रीय राजधानी से कुछ दूर एक सुप्त सा गांव है, जिसका कुछ भी नाम रख लीजिये – किसानपुर!! कहने के लिए तो मात्र दो सौ किलोमीटर दूर है, मगर पहुँचने के लिए आज भी दिल्ली से दो बस और एक तांगा या ऑटो पकड़कर जा सकते हैं| विकास के नाम पर एक मोबाइल टावर हैं, गाँव के हर घर में बिजली के लट्टू हैं, हर हाथ में स्मार्ट फ़ोन हैं और उन्हें चलाने के लिए हर घर में जनरेटर का कनेक्शन है जो मौसम के हिसाब से दिन में दो बार बिजली देता है| सरकारी बिजली भी कभी कभी आ जाती है, जिसका बिल खेती में नाम और उसका न आना सब्सिडी के नाम पर माफ़ है|

निकट के कस्बे से फट फट फट फट की आवाज करते ऑटों में लड़कर पहुंचे थे वहां| मगर मुख्य सड़क से गाँव अभी भी एक किलोमीटर दूर था| साथ में गए बच्चों को गड्ढों के बीच कहीं कहीं किसी ऐतिहासिक सड़क के अवशेष प्राप्त हो रहे थे| सड़क के किनारे तरह तरह के पेड़ और उनके पीछे लहराते खेत मानों लोदी गार्डन का अव्यवस्थित रूप हो| बच्चे किताबों और टेलीविजन से ली गई जानकारी का उत्साह पूर्वक प्रयोग कर रहे थे| कुछ देर पहले तक की परेशानी अब उनके लिए बीती बात थी|

गाँव में पहुँचते ही जब मेजबान का पता पूछा गया, तो बच्चों के लिए हैरत की बात थी| स्मार्ट फोन के मैप पर रास्ता देखने के जगह अब हम बताये गए पहचान चिन्हों के सहारे अपने मेजबान के घर तक पहुँच गए| बच्चे उस बात को खेल की तरह ले रहे थे जो आज भी एक सामान्य बात है|

शाम को घुमने निकले तो बाग़ में कई तरह के फल के पेड़ और खेतों में अलग अलग तरकारी के पौधे और बेलें थीं| ताजा सब्जी का अपना आनंद था| मेजबान के घर के बाहरी हिस्से में मिर्च, टमाटर, हरा धनिया, और कुछ एक और सब्जियों का तरोताजा इंतजाम है| बच्चों के लिए ताजा सलाद और सब्जियां तोडना, काटना और पकाना आज खेल थे| प्रकृति आपके पास थी और उसका आनंद ले सकते थे| दिन में जब भी चाय बनानी हो तो बकरी ताजा दूध दे देती थी| फ्रिज का प्रयोग नगण्य था|

रात को ढेर सारे तारे आसमान में दिखाई दे रहे थे| और शीतल हवा में बच्चे अपनी मर्जी के खेल खेल रहे थे| दिल्ली में जितना बड़ा कालोनी का पार्क था उस से कहीं लम्बी चौड़ी छत यहाँ उनका मैदान थी| समय का कोई बंधन नहीं था|

जिन बच्चों को मैं सुविधाओं की कमी के बारे में बता कर और कोई शिकायत न करने के लिए मना कर ले कर गया था वो पूरी तरह मस्त थे|

शिकायतें कम थी, आनंद बहुत| परिवार और पास पड़ोस के बच्चे कई दिन तक प्रसन्न रहे| मैं सोचता रहा, शहरी विकास का मतलब क्या प्रकृति से दूर चले जाना है?

आनंद को खोजते हुए मानव में विज्ञान और विकास के नए पायदान छू लिए हैं| मगर आज भी जरूरतें वह ही हैं जो आदम काल में थीं – भोजन, सहजीवन, और आश्रय| तकनीकि आपको भटकाती है और प्रकृति आपको वो सब देती है जो हजारों सालों से हम सब की जरूरत है|

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s