तीन हाइकू

वक़्त ठहर जाता

अरमां यूँ ही पिघलते रहते

इश्क़ के अक्ल होने तक||

 

जुनूं था दीवाने को

तेरी मुहब्बत का इश्क़ और

इश्क़ का इबादत होना||

 

दिल चुभता सुबह सुबह

फंस गया पंक्षी चहकत चहकत

पानी की गरारी में||

 

कोशिश की है आज हाइकू लिखने की| मन की बात छुपाने के लिए और छुपाने से जायदा कहने के लिए सही माध्यम लग रहा है|

 

Advertisements

कृपया, अपने बहुमूल्य विचार यहाँ अवश्य लिखें...

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s